Jaisalmer

Jaisalmer
Places to Visit in Jaisalmer,
Best time to visit Jaisalmer,
Climate in Jaisalmer,
How to Reach Jaisalmer,
Food of Jaisalmer,
Hotels in Jaisalmer,

"The Golden City", Jaisalmer is a former medieval trading centre and a state in the western Indian state of Rajasthan, at the heart of the Thar Desert. Known as the "Golden City", it is distinguished by its yellow sandstone architecture. Jaisalmer Fort, touching the sky, is a vast mountainous area surrounded by 99 strongholds. Behind its massive walls are the ornate Maharaja Palace and intricately carved Jain temples.
Jaisalmer is adorned with lakes, ornate Jain temples and Havelis. Climb the camel's saddle and make your way through this desert or camp for an unforgettable experience under the night sky in this golden land.
Jaisalmer Fort stands as a citadel and is surrounded by narrow streets inhabited by people who have lived there for generations. With shops selling colourful handicrafts and Havelis that will take you back in time, Jaisalmer is a great centre of exotic Indian desert culture, heritage and adventure.
Places to visit in Jaisalmer

1. Jaisalmer Fort
The fort of Jaisalmer is filled with rich past and heritage amidst the golden sands of The Thar Desert. Demonstrating superb craftsmanship, Jaisalmer Fort is one of the most famous forts in the world.

2. Desert Safari in Jaisalmer
In the midst of the soft golden sands, Jaisalmer sees a vivid picture of the sheer magic and the magical glow of the desert. Jaisalmer, popularly known as the 'Golden City of Rajasthan', is the glory of the majestic Jaisalmer Fort - a world-famous heritage site. Visit this desert city and through the golden desert, mountain-high sand dunes, the grandeur of the architecture of the Jain temple, the famous Havelis and above all the Jaisalmer desert lifestyle, the special desert safari provided in the area.

3. Kuldhara Village
Kuldhara the village, located about 20 kilometres from the Golden City Jaisalmer, is one of the most interesting and breathtaking attractions that you should include in your itinerary. Enriched with its fair share of legends and myths, this village is called a scary and haunted village. Leaving solitude among vast stretches of desert, with its solitude and graceful form, its reputation is maintained. There have been stories of ghostly and paranormal activities in and around the village, but as usual, no one could provide any concrete evidence of this. If you want to be surrounded by an air of mystery, check it out.

4. Jain Temple in Jaisalmer
This group of beautiful temples within the Jaisalmer, Fort walls have carved structures depicting images of sages, monks, animals etc. Built-in Dilwara style which is famous worldwide for its architecture, these temples are dedicated to Rishabhdevji and Shambhadev. Yes, Jain scripture famous as 'Tirthankaras'.

5. Desert National Park
Desert National Park is one of the largest national parks, covering an area of 3162 km '. It is an excellent example of the Thar Desert ecosystem and there are 20% of sand dunes throughout the park.
6. Gadisar Lake
Built-in The 14th century, it was once a source of drinking water for the city of Bikaner. It has now developed into a tourist destination with many temples and shrines surrounding the lake.
7. Sam Sand Dunes
A rare desert region located only on the banks of the Jaisalmer Desert National Park and a must-see of Rajasthan's top 10 tourist destinations by Lonely Planet and Tripadvisor, Sam Sand Dunes are simply amazing. These mounds are 42–45 km from Swarna Nagri (Jaisalmer) and have a well-sealed rugged road maintained by the Indian Army. (BR) To be honest, these sand dunes are very similar to the Sahara Desert. The best time to visit these mounds is sunset (around 4-7 am) or sunrise (4-6 am). There are many other activities that one can enjoy in the form of Camel Safari and Jeep Safari.
8. Tazia Tower and Badal Mahal
The Badal Mahal has a cloud-like shape and Tajia Tower is coming out of it. This tower is quite different from the normal Rajputana architecture of Rajasthan.
9. Patwon ki Haveli
Patwon's the mansion, dotted in an enchanting shade of yellow, attracts the attention of every visitor. It is a group of 5 Havelis, which is believed to be a wealthy merchant of Patwa, which produced stories for each of his 5 sons.
10. Bada Bagh
Bada Bagh in Jaisalmer, Rajasthan is a park located mainly north of Jaisalmer, about 6 km north of Ramgarh. The royal cenotaph set originally belonged to the chhatris of the Maharajas who once ruled the Jaisalmer kingdom. The gardens are now largely neglected, but the hillsides with cenotaphs are still an interesting scene in the midst of sand dunes, creating a panoramic view for the eye.

11. Tanot Mata Temple
Tanot Mahal, located 122 km from the city of Jaisalmer, is a historic temple on the Longewala border in Rajasthan. The temple is surrounded by many legends that arouse curiosity in every visitor. Although it is located very close to the India-Pakistan border, it remained untouched during the 1971 war.

12. Windmill Park
India's largest operational onshore windmill farm, the Jaisalmer Wind Mill Park is located near the Yamuna River between the Vindhya Mountains and the Himalayas in Rajasthan.

13. Akal Wood Fossil Park
Akal Wood Fossil Park is a prehistoric era destination. It is located on the Barmer Road, 17 km from the city of Jaisalmer. Akal Wood Fossil Park is the pride of the city of Jaisalmer; It is the National Geological Monument of India.

14. Camping and cultural evening
The golden fort, sand dunes, and charming palaces make Jaisalmer an ideal place for camping and cultural evenings. Camping tours should be on the bucket list of anyone who wants to dig deep into the true essence of Rajasthan.

15. Barmer
Full of vibrant colours, rich heritage and warm hospitality, Barmer is a small city that represents the true reflection of Rajasthan. The sandy plains of the city are vibrant and a must-visit.

16. Khuri
Khuri, also known as Tilo Ki Dhani, is a natural habitat in the Thar Desert close to Jaisalmer. Known for the vast stretch of sand dunes and sandbanks, Khuri camel is an ideal place for a safari.

17. Desert Festival Jaisalmer
The desert the festival is the most awaited colourful event in the land of sand dunes and camels. It was started with the intention of giving tourists a glimpse of royal Rajasthani culture. The festival organizes various activities such as camel races, turban tying competitions and Mr Desert competition.

18. Desert Culture Center and Museum
Knowledge bank of Jaisalmer's rich cultural heritage, craftsmanship and artistic talents, the museum displays various collections of traditional instruments, rich collections of ancient and medieval coins, utensils of any kind and other artefacts and admirable garments.

19. Dune Bashing
Doon Bashing is one of the most special and unique things in Jaisalmer. If you have an adventurous streak, this is an activity that you should definitely try. You will still feel your adrenaline when you are safely seated on the seat with a seat belt when you are rafting through the pits and part of the majestic golden desert falls.

20. Indo-Pak border
Going to the Indo-Pak border is one of the most exotic things in Jaisalmer. The area is located near the Tanot Mata temple and can be accessed by prior permission and permits from the Indian military forces.

21. Quad Biking in Jaisalmer
Quad biking is a very exciting and exciting thing to do in Jaisalmer. The adrenaline sprinting game is called ATV Bike provides a real ride on. The activity is carried out under the strict guidance and supervision of a professional. You can spend your 'heroic' moment trying to capture the vast desert on your high-speed bike.

22. Parasailing in Jaisalmer
Parasailing is one of the most exciting things in Jaisalmer. Most desert camps and resorts conduct this activity on prior request. This activity offers an enchanting view of the golden sandy city below and you must try it in Jaisalmer.

23. Nathmal Ki Haveli
Nathmal Ki Haveli is an ornate architecture in the centre of the city Jaisalmer. It was commissioned to serve as the residence of the then Prime Minister Dewan Mohta Nathmal. Jaisalmer otherwise known as the land of the Golden Fort is the grandeur of the Havelis.

24. Jaisalmer Government Museum
Established by the Department of Archeology in the year 1984, the Government Museum is a major tourist attraction of Jaisalmer. It was built to highlight the multi-faceted traditional and cultural heritage of the Great Thar Desert. Jaisalmer, situated amidst the mighty Thar Desert, is an attractive city of Rajasthan.

25. Salim Singh's Haveli
Salim Singh's Haveli is a beautiful building in the centre of the city Jaisalmer. It is one of the major tourist attractions built in 1815 AD and commissioned by the then Prime Minister of the Kingdom, Salim Singh. It also bears another beautiful name - Jhaj Mahal, similar to a ship as the front aspect of the mansion.

26. Temple Palace
The most magnificent heritage hotel of the city of Jaisalmer is the Mandira Palace, a two-century-old architecture. The hotel offers an atmosphere of medieval charm with a glimpse of modern amenities. It is adorned with exquisite stone carvings, ornate balconies, canopies that represent craftsmanship in its pure form.

27. Ramdevara Temple
Ramdevra Temple is a sacred temple for the folk deity of Rajasthan - Baba Ramdevji. It is located 12 km from Pokhran on the Jaisalmer route from Jodhpur. Baba Ramdev is believed to have been born in 1459 AD. I took samadhi (coming into consciousness from a mortal body) in Ramdevra. Subsequently, Maharaja Ganga Singh of Bikaner built time around his tomb.

28. Jaisalmer War Museum
The Jaisalmer War Museum, also known as the Longewala War Memorial, is built with the vision of honouring war heroes in military service. It acknowledges the bravery and sacrifices of the Indian Army. On 24 August 2015, the museum was inaugurated and proclaimed to the nation. It happened in 1965, on the day of the Golden Jubilee of the India-Pakistan War.

29. Amar Sagar Lake
Amar Sagar Lake is an oasis near Amar Singh's palace. The 17th-century citadel was built by Maharawal Akhai Singh, which is located on the outskirts of the Jaisalmer city. The palace complex consists of number of wells and ponds with chhatris and is an ancient Shiva temple made of marble in the 18th century.

30. Vyas Chhatri
Vyas Chhatri is a combination of golden sandstone, a symbol of Rajasthani architecture. It was dedicated to the sage Vyasa, author of the epic Mahabharata, whose inscription is located to the north of the fort.

31. Khaba Fort
Khaba Fort is a ruins bastion situated amidst the scorching Thar Desert? Its history dates back to the 13th century. The architecture once belonged to the Paliwal Brahmins of Kuldhara village, who fled the city leaving a ghost town in the 19th century.

32. Lodhruva
Lodrava, 16 km northwest of Jaisalmer is the ancient capital of the 12th century, Bhatti dynasty. The old capital of Bhatti Rajput was once a prosperous city. Although the city was torn down by Muslim invaders, the major attraction of the city is its architectural ruins.

33. Thar Heritage Museum
Established by L. Narayana Khatri, the Thar Heritage Museum is a historic reservoir. L. Narayan was a noted scholar of Jaisalmer folklore. The museum showcases the rich culture, heritage, folk art and architectural style of Rajasthan.

34. Surya Gate
Surya Dwar is one of the four entrances to the Jaisalmer Fort of the 12th century. The fort on the Trikuta hill consists of four successive gates Akai, Surya, Ganesh and Hava through which visitors have to pass.

35. Shantinath Temple
Shantinath Temple is one of the groups of seven Jain temples built in Jaisalmer Fort. It is made with exquisite carvings in the Dilwara style. The 16th-century temple has a beautiful idol of Jain saint Shri Shantinath. The grandeur style reflects its magnificent architecture of the medieval period.

36. Tazia Tower
Tazia Tower is a unique Rajputana architecture of Rajasthan. Located in the Badal complex, the building has five storeys, each of which tells a different story. Taziya in Urdu means a boat taken out during the Moharram procession.

37. Chandraprabhu Temple
Chandraprabhu Temple is an exemplary Jain temple built in the 16th century. It is one of the seven temples that were built for the 8th Tirthankara Jain Prophet Chandraprabhu.
38. Pokhran Fort

The Balagarh Fort was built in the 14th century by Marwar Thakur, Rao Maldev, otherwise known as Pokaran Fort. Pokhran means the location of five mirage surrounded by sandy, rocky, salt ranges. Although there is a small temple made of red sandstone, the fort is dedicated to Goddess Durga.

39. Pachpadra Lake
Pachpadra Lake, located in Barmer district of Rajasthan near Jaisalmer, is a saltwater lake with 98% sodium chloride levels. Apart from the usual extraction of high-quality salt from the water, the lake is also a popular tourist destination and one of the most visited attractions in the city. Spread over an area of 25 square kilometres, white waves of salt hit the boundaries of the lake, a visual treat in the midst of scorching desert lands. Considered one of the most popular picnic spots in the region, the lake also boasts complete tranquillity and tranquillity and people usually come here to relax and take a break from the chaos of life and cacophony. The lake is also visited by many exotic and unique birds that make space for photography lovers, nature lovers and enthusiastic birdwatchers.


Best time to visit Jaisalmer

The best time to visit Jaisalmer is September to March, basically the winter season. During this season, the desert region experiences pleasant weather conditions throughout the day which make the trip to Jaisalmer even more enjoyable. Jaisalmer is known for being outdoors in the desert and there are a lot of things you can do in Jaisalmer. Tourists from all over the world come to enjoy the city and it is famous for camel safari on the sand. However, being near the desert means that the climate is always extreme, with temperatures being really high and really low at different times. Generally, winter is considered the best season to visit Jaisalmer.

Climate in Jaisalmer
Summer in Jaisalmer
April-August: These months make summer in Jaisalmer and it is incredibly hot during this particular season in Jaisalmer. However, due to the extreme climate, this is the best time to visit Jaisalmer for budget travellers, as hotels in and around Jaisalmer offers superb discounts during the offseason. For tourists visiting Jaisalmer during this period, it is extremely important to pack light and cotton clothes, and a healthy amount of sunscreen. The daytime temperature in Jaisalmer fluctuates around 40 ° C, it is easy to imagine that summer in Jaisalmer is not very popular among tourists.

Monsoon season in Jaisalmer
September - October - Jaisalmer has a relatively short monsoon season. The rainfall in this region is sparse and there is no rain even on those days. Also, after the first few showers of rain, it adds humidity to an already warm climate. It is hard to imagine anything of heat in Jaisalmer in terms of temperature, but when moisture is added to it, the heat gets worse to deal with. However, it should be noted that October is when the weather changes and everything starts to cool down. <readmore> It also resumes the beginning of the tourist season. Tourists can play a gamble on the Jaisalmer season in October as there is a chance that they can get good weather without the crowds that usually accompany it.

Winter season in Jaisalmer
November-March: The months between November and March are the winter months in Jaisalmer and can be said to be an ideal time to visit Jaisalmer. All the activities and sites related to the desert can be best enjoyed during these months as the weather is pleasant. Jaisalmer weather is pleasant in December and January, with a maximum of 24 ° C and a minimum of 5 ° C, although it can be a bit cold at times. The winter season in Jaisalmer is the best time to visit for couples on their honeymoon. There are not many experiences that feel as romantic as camping under a starry sky. The cold weather makes it ideal for a relaxing holiday that enjoys the destination and the company of a partner. The Desert Festival also takes place during the month of February, usually, in winter one enjoys walking in Jaisalmer. However, due to all these things, Jaisalmer is thick with tourists at the moment and everything is just so expensive.

How to reach Jaisalmer

Jodhpur is the nearest airport, about 300 km. From there one can take a train. Jaisalmer is well connected to all major cities via railway. One can also reach Jaisalmer by 'Palace on Wheels'. The city is well connected to the rest of the state and also has well-maintained roads.

How to reach Jaisalmer by flight
There are regular flights to Jodhpur from Delhi, Mumbai and Bangalore. One can take connecting flights to this place from other cities. It is advisable to take a cab from Jodhpur Airport to Jaisalmer. The picturesque view will make the journey of 4-5 hours worthwhile.

Nearest Airport: Jodhpur Airport (JDH) - 225 km from Jaisalmer

How to reach Jaisalmer by Road
Jaisalmer is well connected to the nearest cities through a network of roads. Buses are also easily available, being such a popular destination among tourists.

How to reach Jaisalmer by Train
Jaisalmer is really well connected in terms of the railway network. In particular, there are major trains like "Delhi Jaisalmer Express", "Jodhpur Jaisalmer Express" and "Howrah Jaisalmer Express" along with cities like Delhi, Jaipur and Jodhpur. Rickshaws and autos are easily available outside the railway station. It usually costs around 40-50 rupees for an auto ride from the railway station to the city centre.

Jaisalmer food

Add just a small hint of non-vegetarian food rich in typical Rajasthani cuisine and subtle influences from North India, and the rich and mouth-watering menu you get will be the food of Jaisalmer. Murag-e-Sabz is a chicken delicacy that you should not miss in Jaisalmer. Along with this, there are other non-vegetarian preparations such as tikkus and kebabs. Apart from these Ker Sangri, Bannon Alo and Kadi Pakora are popular and almost define the food here.


Hotels in Jaisalmer

1. Hotel Jaisalkot
2. Hotel Shree Gokul
3. Jaisalmer Marriott Resort and Spa
4. Suryagarh by MRS Group
5. Shree Gokul
6. Lakshmi Villa

"द गोल्डन सिटी", जैसलमेर एक पूर्व मध्ययुगीन व्यापारिक केंद्र और पश्चिमी भारतीय राज्य राजस्थान में एक राज्य है, जो थार रेगिस्तान के केंद्र में है। "गोल्डन सिटी" के रूप में जाना जाता है, यह अपने पीले बलुआ पत्थर वास्तुकला द्वारा प्रतिष्ठित है। आसमान छूते हुए जैसलमेर का किला, 99 गढ़ों से घिरा एक विशाल पहाड़ी इलाका है। इसकी विशाल दीवारों के पीछे अलंकृत महाराजा पैलेस और जटिल रूप से नक्काशीदार जैन मंदिर हैं।
जैसलमेर झीलों, अलंकृत जैन मंदिरों और हवेलियों से सुशोभित है। ऊंट की काठी पर चढ़ो और इस सुनहरी भूमि में रात के आसमान के नीचे एक अविस्मरणीय अनुभव के लिए इस रेगिस्तान या शिविर के माध्यम से अपना रास्ता बनाओ।
जैसलमेर किला एक गढ़ के रूप में खड़ा है और पीढ़ियों से वहाँ निवास करने वाले लोगों द्वारा बसाए गए संकरी गलियों से घिरा हुआ है। रंगीन हस्तशिल्प और हवेलियां बेचने वाली दुकानों के साथ जो आपको समय में वापस यात्रा कराएंगे, जैसलमेर विदेशी भारतीय रेगिस्तान संस्कृति, विरासत और रोमांच का एक बड़ा केंद्र है।


जैसलमेर में घूमने की जगहें

1. जैसलमेर का किला

जैसलमेर का किला, थार रेगिस्तान की सुनहरी रेत के बीच समृद्ध अतीत और विरासत से भरा हुआ है। शानदार शिल्प कौशल को प्रदर्शित करते हुए, जैसलमेर का किला दुनिया के सबसे प्रसिद्ध किलों में से एक है।

2. जैसलमेर में डेजर्ट सफारी

नरम सुनहरे रेत के बीच में, जैसलमेर में सरासर जादू और रेगिस्तान की जादुई चमक का एक ज्वलंत चित्र दिखाई देता है। जैसलमेर, जिसे 'गोल्डन सिटी ऑफ़ राजस्थान' के नाम से जाना जाता है, राजसी जैसलमेर किले की महिमा - विश्व प्रसिद्ध विरासत स्थल है। इस रेगिस्तानी शहर की यात्रा और स्वर्ण हवा, पहाड़-ऊँची रेत के टीलों, जैन मंदिर की वास्तुकला की भव्यता, प्रसिद्ध हवेलियों और सभी जैसलमेर रेगिस्तान की जीवन शैली से ऊपर, क्षेत्र में प्रदान की गई विशेष रेगिस्तान सफारी के माध्यम से।

3. कुलधारा गाँव

गोल्डन सिटी जैसलमेर से लगभग 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित कुलधारा गांव सबसे दिलचस्प और लुभावने आकर्षण स्थलों में से एक है जिसे आपको अपने यात्रा कार्यक्रम में शामिल करना चाहिए। किंवदंतियों और मिथकों के अपने उचित हिस्से से समृद्ध इस गाँव को एक डरावना और प्रेतवाधित गाँव कहा जाता है। रेगिस्तान के विशाल हिस्सों के बीच एकांत छोड़कर, इसके एकांत और सुंदर रूप के साथ, इसकी प्रतिष्ठा तक कायम है। गाँव में और उसके आस-पास भूतिया और अपसामान्य गतिविधियों की कहानियाँ रही हैं, लेकिन हमेशा की तरह कोई भी इसका कोई ठोस सबूत नहीं दे सका। यदि आप रहस्य की एक हवा से घिरे होना चाहते हैं, तो इसे देखें।

4. जैसलमेर में जैन मंदिर

जैसलमेर किले की दीवारों के भीतर सुंदर मंदिरों के इस समूह में नक्काशीदार संरचनाएं हैं जो ऋषि, भिक्षुओं, जानवरों आदि के चित्रों का चित्रण करती हैं। बिल्ट-इन दिलवाड़ा शैली जो अपनी वास्तुकला के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है, ये मंदिर ऋषभदेवजी और शंभदेव को समर्पित हैं। जी, 'तीर्थंकरों' के नाम से प्रसिद्ध जैन धर्मग्रंथ।



5. डेजर्ट नेशनल पार्क

डेजर्ट नेशनल पार्क सबसे बड़े राष्ट्रीय उद्यानों में से एक है, जो 3162 किमी 'के क्षेत्र को कवर करता है। यह थार रेगिस्तान के पारिस्थितिक तंत्र का उत्कृष्ट उदाहरण है और पूरे पार्क में रेत के टीले 20% हैं।

6. गडीसर झील

14 वीं शताब्दी में निर्मित, यह कभी बीकानेर शहर के लिए पीने के पानी का स्रोत था। अब यह झील के आसपास के कई मंदिरों और मंदिरों के साथ एक पर्यटक स्थल के रूप में विकसित हो गया है।


7. सैम सैंड ड्यून्स

एक दुर्लभ रेगिस्तानी क्षेत्र जो कि केवल जैसलमेर डेजर्ट नेशनल पार्क के किनारे पर स्थित है और यह लोनली प्लैनेट और त्रिपादविसोर द्वारा राजस्थान के शीर्ष 10 पर्यटन स्थलों को देखना चाहिए, सैम सैंड ड्यून्स बस अद्भुत हैं। ये टीले स्वर्ण नगरी (जैसलमेर) से 42-45 किमी दूर हैं और एक अच्छी सी सील न की गई ऊबड़-खाबड़ सड़क है जिसे भारतीय आर्म सेना द्वारा बनाए रखा जाता है। (BR) ईमानदारी से कहें तो ये रेत के टीले सहारा रेगिस्तान से काफी मिलते जुलते हैं। इन टीलों पर जाने का सबसे अच्छा समय सूर्यास्त (लगभग 4-7 बजे) या सूर्योदय (सुबह 4-6 बजे) है। कई अन्य गतिविधियां हैं जो ऊंट सफारी और जीप सफारी के रूप में आनंद ले सकते हैं।

8. तज़िया टॉवर और बादल महल

बादल महल में बादल जैसी आकृति है और इसमें से ताजिया टॉवर निकल रहा है। यह मीनार राजस्थान की सामान्य राजपुताना वास्तुकला से काफी अलग है।

9. पटवों की हवेली

पीले रंग के करामाती शेड में डूबी पटवन की हवेली हर आने-जाने वाले का ध्यान आकर्षित करती है। यह 5 हवेली का एक समूह है, जिसके बारे में माना जाता है कि यह पटवा एक अमीर व्यापारी था, जिसने अपने प्रत्येक 5 बेटों के लिए कहानियों का निर्माण किया था।

10. बड़ा बाग

जैसलमेर, राजस्थान में बड़ा बाग मुख्य रूप से रामगढ़ से लगभग 6 किमी उत्तर में जैसलमेर के उत्तर में स्थित एक उद्यान है, जो एक उद्यान है। शाही सेनोटाफ का सेट मूल रूप से महाराजाओं की छत्रियों का था जो कभी जैसलमेर राज्य पर शासन करते थे। उद्यान अब काफी हद तक उपेक्षित हैं, लेकिन सेनेटोफ्स के साथ पहाड़ी अभी भी रेत के टीलों के बीच में एक दिलचस्प दृश्य है, जो आंखों के लिए मनोरम दृश्य बनाते हैं।

11. तनोट माता मंदिर

जैसलमेर शहर से 122 किमी दूर स्थित तनोट महल राजस्थान में लोंगेवाला सीमा पर एक ऐतिहासिक मंदिर है। मंदिर कई किंवदंतियों से घिरा हुआ है जो हर आगंतुक में जिज्ञासा पैदा करता है। यद्यपि यह भारत-पाकिस्तान सीमा के बहुत करीब स्थित है, लेकिन 1971 में युद्ध के दौरान यह अछूता रहा।

12. पवनचक्की पार्क

भारत का सबसे बड़ा ऑपरेशनल ऑनशोर विंडमिल फार्म, जैसलमेर विंड मिल पार्क राजस्थान में विंध्य पर्वत और हिमालय के बीच यमुना नदी के पास स्थित है।

13. अकाल वुड फॉसिल पार्क

अकाल वुड फॉसिल पार्क प्रागैतिहासिक युग का गंतव्य है। यह जैसलमेर शहर से 17 किमी दूर बाड़मेर रोड पर स्थित है। अकाल वुड फॉसिल पार्क जैसलमेर शहर का गौरव है; यह भारत का राष्ट्रीय भूवैज्ञानिक स्मारक है।

14. कैम्पिंग और सांस्कृतिक शाम

स्वर्ण किला, रेत के टीले, और आकर्षक महल जैसलमेर को कैम्पिंग और सांस्कृतिक शाम के लिए एक आदर्श स्थान बनाते हैं। कैम्पिंग टूर किसी की भी बकेट लिस्ट पर होना चाहिए जो राजस्थान के वास्तविक सार को गहराई से खोदना चाहता है।

15. बाड़मेर

जीवंत रंग, समृद्ध विरासत और गर्म आतिथ्य से भरा, बाड़मेर एक छोटा सा शहर है जो राजस्थान के सच्चे प्रतिबिंब का प्रतिनिधित्व करता है। शहर के रेतीले मैदान जीवंत हैं और एक अवश्य ही जाना चाहिए।

16. खुरी

खुरी, जिसे तिलो की ढाणी के रूप में भी जाना जाता है, जैसलमेर के करीब थार रेगिस्तान में एक प्राकृतिक आवास है। रेत के टीलों और सैंडबैंक के विशाल खंड के लिए प्रसिद्ध, खुरी ऊँट सफारी के लिए एक आदर्श स्थान है।

17. डेजर्ट फेस्टिवल जैसलमेर

रेगिस्तानी त्योहार रेत के टीलों और ऊंटों की भूमि में सबसे प्रतीक्षित रंगीन कार्यक्रम है। यह पर्यटकों को शाही राजस्थानी संस्कृति की झलक देने के इरादे से शुरू किया गया था। त्योहार ऊंट दौड़, पगड़ी बांधने की प्रतियोगिताओं और मिस्टर डेजर्ट प्रतियोगिता जैसी विभिन्न गतिविधियों का आयोजन करता है।

18. रेगिस्तान संस्कृति केंद्र और संग्रहालय

जैसलमेर की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत, शिल्प कौशल और कलात्मक प्रतिभाओं का ज्ञान बैंक, संग्रहालय पारंपरिक उपकरणों के विभिन्न संग्रह, प्राचीन और मध्यकालीन सिक्कों के समृद्ध संग्रह, किसी भी प्रकार के बर्तन और अन्य कलाकृतियों और सराहनीय वस्त्रों को प्रदर्शित करता है।

19. दून कोसना

दून बैशिंग जैसलमेर में सबसे खास और अनोखी चीजों में से एक है। यदि आपके पास एक साहसिक लकीर है, तो यह एक गतिविधि है जिसे आपको निश्चित रूप से प्रयास करना चाहिए। जब आप सुरक्षित रूप से सीट बेल्ट लगाकर सीट पर बैठे होते हैं, तब भी आप अपने एड्रेनालाईन को महसूस करेंगे, जब आप गड्ढों के माध्यम से राफ्टिंग कर रहे हों और राजसी सुनहरे रेगिस्तान का हिस्सा गिर जाए।

20. भारत-पाक सीमा

भारत-पाक सीमा पर जाना जैसलमेर में सबसे विदेशी चीजों में से एक है। यह क्षेत्र तनोट माता मंदिर के पास स्थित है और भारतीय सैन्य बलों से पूर्व अनुमति और परमिट के द्वारा जाया जा सकता है।

21. जैसलमेर में क्वाड बाइकिंग

जैसलमेर में करने के लिए क्वाड बाइकिंग एक बहुत ही रोमांचक और रोमांचकारी चीज़ है। एड्रेनालाईन दौड़ने का खेल एटीवी बाइक कहा जाता है पर एक असली सवारी प्रदान करता है। गतिविधि एक पेशेवर के सख्त मार्गदर्शन और पर्यवेक्षण के तहत की जाती है। आप अपने 'वीर' क्षण को अपनी उच्च गति वाली बाइक पर विशाल रेगिस्तान पर कब्जा करने की कोशिश कर सकते हैं।

22. जैसलमेर में पैरासेलिंग

जैसलमेर में पैरासेलिंग सबसे रोमांचक चीजों में से एक है। ज्यादातर रेगिस्तान शिविर और रिसॉर्ट्स पूर्व अनुरोध पर इस गतिविधि का आयोजन करते हैं। यह गतिविधि नीचे के सुनहरे रेतीले शहर का मनमोहक दृश्य प्रस्तुत करती है और जैसलमेर में आपको इसे जरूर आजमाना चाहिए।

23. नथमल की हवेली

नथमल की हवेली शहर जैसलमेर के केंद्र में एक अलंकृत वास्तुकला है। यह तत्कालीन प्रधानमंत्री दीवान मोहता नथमल के निवास के रूप में सेवा करने के लिए कमीशन किया गया था। जैसलमेर अन्यथा स्वर्ण किले की भूमि के रूप में जाना जाता है, यह हवेलियों की भव्यता है।

24. जैसलमेर सरकार संग्रहालय

वर्ष 1984 में पुरातत्व विभाग द्वारा स्थापित, सरकारी संग्रहालय जैसलमेर का एक प्रमुख पर्यटक आकर्षण है। इसे महान थार रेगिस्तान की बहुमुखी पारंपरिक और सांस्कृतिक विरासत को उजागर करने के लिए बनाया गया था। शक्तिशाली थार रेगिस्तान के बीच बसा जैसलमेर राजस्थान का आकर्षक शहर है।

25. सलीम सिंह की हवेली

सलीम सिंह की हवेली शहर जैसलमेर के केंद्र में एक सुंदर इमारत है। यह 1815 ईस्वी में निर्मित प्रमुख पर्यटकों के आकर्षण में से एक है और इसे किंगडम के तत्कालीन प्रधान मंत्री सलीम सिंह द्वारा कमीशन किया गया है। यह एक और सुंदर नाम भी रखता है - झाझ महल, हवेली के सामने के पहलू के रूप में एक जहाज के समान है।

26. मंदिर महल

जैसलमेर शहर का सबसे शानदार धरोहर होटल मंदिरा पैलेस एक दो सदी पुरानी वास्तुकला है। होटल आधुनिक सुविधाओं की एक झलक के साथ मध्ययुगीन आकर्षण का माहौल प्रदान करता है। यह उत्तम पत्थर की नक्काशी, अलंकृत बालकनियों, कैनोपियों से सुशोभित है जो अपने शुद्ध रूप में शिल्प कौशल का प्रतिनिधित्व करते हैं।

27. रामदेवरा मंदिर

रामदेवरा मंदिर राजस्थान के लोक देवता के लिए एक पवित्र मंदिर है - बाबा रामदेवजी। यह जोधपुर से जैसलमेर मार्ग पर पोखरण से 12 किमी दूर स्थित है। ऐसा माना जाता है कि बाबा रामदेवजी ने 1459 ई। में रामदेवरा में समाधि (नश्वर शरीर से होश में आना) लिया। इसके बाद, बीकानेर के महाराजा गंगा सिंह ने अपनी समाधि के चारों ओर समय का निर्माण किया।

28. जैसलमेर युद्ध संग्रहालय

जैसलमेर वॉर म्यूजियम को लोंगेवाला वॉर मेमोरियल के रूप में भी जाना जाता है, जिसे सैन्य नायकों में युद्ध नायकों को सम्मानित करने की दृष्टि से बनाया गया है। यह भारतीय सेना की बहादुरी और बलिदानों को स्वीकार करता है। 24 अगस्त 2015 को, संग्रहालय का उद्घाटन किया गया और राष्ट्र को घोषित किया गया। यह 1965 में भारत-पाकिस्तान युद्ध की स्वर्ण जयंती के दिन हुआ था।

29. अमर सागर झील

अमर सागर झील अमर सिंह के महल के पास एक नखलिस्तान है। 17 वीं शताब्दी के गढ़ का निर्माण महारावल अखई सिंह ने किया था जो जैसलमेर शहर के बाहरी इलाके में स्थित है। महल परिसर में छत्रियों के साथ संख्या कुएं और तालाब शामिल हैं और 18 वीं शताब्दी में संगमरमर से बना एक प्राचीन शिव मंदिर है।

30. व्यास छत्री

व्यास छत्री स्वर्ण बलुआ पत्थर का संयोजन है, जो राजस्थानी वास्तुकला का एक प्रतीक है। यह महाकाव्य महाभारत के लेखक ऋषि व्यास को समर्पित था, जिसका शिलालेख किले के उत्तर में स्थित है।

31. खाबा किला

चिलचिलाती थार रेगिस्तान के बीच स्थित एक खंडहर गढ़ खाबा किला है। इसका इतिहास 13 वीं शताब्दी का है। वास्तुकला एक बार कुलधारा गाँव के पालीवाल ब्राह्मणों की थी, जो 19 वीं शताब्दी में एक भूत शहर को छोड़कर शहर से भाग गए थे।

32. लोद्रुवा

जैसलमेर से 16 किमी उत्तर-पश्चिम में लोद्रवा 12 वीं शताब्दी के भट्टी वंश की प्राचीन राजधानी है। भट्टी राजपूत की पुरानी राजधानी कभी एक समृद्ध शहर थी। हालाँकि इस शहर को मुस्लिम आक्रमणकारियों द्वारा तोड़ दिया गया था, लेकिन शहर का प्रमुख आकर्षण इसके वास्तुशिल्प खंडहर हैं।

33. थार विरासत संग्रहालय

एल नारायण खत्री द्वारा स्थापित, थार विरासत संग्रहालय एक ऐतिहासिक जलाशय है। एल नारायण जैसलमेर के लोकगीतों के प्रख्यात विद्वान थे। संग्रहालय राजस्थान की समृद्ध संस्कृति, विरासत, लोक कला और वास्तुकला शैली को दर्शाता है।

34. सूर्य द्वार

सूर्य द्वार 12 वीं शताब्दी के जैसलमेर किले के चार प्रवेश द्वारों में से एक है। त्रिकुटा पहाड़ी पर बने किले में अकई, सूर्या, गणेश और हावा चार क्रमिक द्वार हैं जिनके माध्यम से आगंतुकों को गुजरना पड़ता है।

35. शांतिनाथ मंदिर

शांतिनाथ मंदिर जैसलमेर किले में बने सात जैन मंदिरों के समूह में से एक है। यह दिलवाड़ा शैली में उत्तम नक्काशी के साथ बनाया गया है। 16 वीं शताब्दी के मंदिर में जैन संत श्री शांतिनाथ की सुंदर मूर्ति है। भव्यता शैली मध्यकाल की अपनी शानदार वास्तुकला को दर्शाती है।

36. तज़िया टॉवर

तज़िया टॉवर राजस्थान की एक अद्वितीय राजपुताना वास्तुकला है। बादल परिसर में स्थित, इमारत में पाँच मंजिला हैं, जिनमें से प्रत्येक एक अलग कहानी बताता है। उर्दू में तज़िया का अर्थ है मोहर्रम के जुलूस के दौरान निकाली गई नाव।

37. चंद्रप्रभु मंदिर

चंद्रप्रभु मंदिर 16 वीं शताब्दी में बना एक अनुकरणीय जैन मंदिर है। यह उन सात मंदिरों में से एक है जिनका निर्माण 8 वें तीर्थंकर जैन पैगंबर चंद्रप्रभु जी के लिए किया गया था।

38. पोखरण किला

बालागढ़ किले का निर्माण 14 वीं शताब्दी में मारवाड़ ठाकुर, राव मालदेव द्वारा किया गया था, इसे अन्यथा पोकरण किले के रूप में जाना जाता है। पोखरण का अर्थ है रेतीले, चट्टानी, नमक पर्वतमाला से घिरे पाँच मृगतृष्णाओं का स्थान। यद्यपि लाल बलुआ पत्थर से बना एक छोटा सा मंदिर है, किला देवी दुर्गा को समर्पित है।

39. पचपदरा झील

जैसलमेर के पास राजस्थान के बाड़मेर जिले में स्थित पचपदरा झील एक खारे पानी की झील है जिसमें 98% सोडियम क्लोराइड का स्तर है। पानी से उच्च-गुणवत्ता वाले नमक के सामान्य निष्कर्षण के अलावा, झील एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल भी है और शहर में सबसे अधिक देखे जाने वाले आकर्षणों में से एक है। 25 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैले हुए, नमक की सफेद लहरें झील की सीमाओं से टकराती हैं, चिलचिलाती रेगिस्तानी भूमि के बीच में एक दृश्य उपचार है। इस क्षेत्र में सबसे लोकप्रिय पिकनिक स्पॉट में से एक माना जाता है, झील भी पूरी तरह से शांत और शांति का दावा करती है और लोग आमतौर पर आराम करने और आराम करने के लिए जीवन की अराजकता और कैकोफोनी से छुट्टी लेने के लिए यहां आते हैं। झील कई विदेशी और अद्वितीय पक्षियों द्वारा भी देखी जाती है जो फोटोग्राफी प्रेमियों, प्रकृति प्रेमियों और उत्साही बर्डवॉचर्स के लिए जगह बनाती है।


जैसलमेर घूमने का सबसे अच्छा समय

जैसलमेर घूमने का सबसे अच्छा समय सितंबर से मार्च है, मूल रूप से सर्दियों का मौसम। इस मौसम के दौरान, रेगिस्तान क्षेत्र पूरे दिन सुखद मौसम की स्थिति का अनुभव करता है जो जैसलमेर की यात्रा को और भी अधिक सुखद बनाते हैं। जैसलमेर को रेगिस्तान में बाहर रहने के लिए जाना जाता है और जैसलमेर में आप बहुत सारी चीजें कर सकते हैं। दुनिया भर के पर्यटक शहर का आनंद लेने आते हैं और यह रेत पर ऊंट सफारी के लिए प्रसिद्ध है। हालांकि, रेगिस्तान के पास होने का अर्थ है कि जलवायु हमेशा चरम पर होती है, तापमान अलग-अलग समय पर वास्तव में उच्च और वास्तव में कम होता है। आमतौर पर, सर्दियों को जैसलमेर की यात्रा के लिए सबसे अच्छा मौसम माना जाता है।

I am In Love with Aviation 


























जैसलमेर में जलवायु
जैसलमेर में ग्रीष्म ऋतु
अप्रैल-अगस्त: ये महीने जैसलमेर में गर्मी बनाते हैं और जैसलमेर में इस विशेष मौसम के दौरान यह अविश्वसनीय रूप से गर्म होता है। हालांकि, अत्यधिक जलवायु के कारण, जैसलमेर में बजट यात्रियों के लिए जाने का यह सबसे अच्छा समय है, क्योंकि जैसलमेर में और उसके आसपास के होटल, ऑफसेन के दौरान शानदार छूट प्रदान करते हैं। इस दौरान जैसलमेर जाने वाले पर्यटकों के लिए, हल्के और सूती कपड़े, और सनस्क्रीन की एक स्वस्थ मात्रा पैक करना बेहद महत्वपूर्ण है। जैसलमेर में दिन के समय तापमान में लगभग 40 डिग्री सेल्सियस का उतार-चढ़ाव होता है, यह कल्पना करना आसान है कि जैसलमेर में गर्मियों में पर्यटकों के बीच बहुत लोकप्रिय नहीं है।

जैसलमेर में मानसून का मौसम
सितंबर-अक्टूबर - जैसलमेर में मानसून अपेक्षाकृत कम मौसम होता है। इस क्षेत्र में जो वर्षा होती है, वह विरल होती है और उन दिनों में भी कुछ बारिश नहीं होती है। इसके अलावा, बारिश के पहले कुछ वर्षा के बाद, यह पहले से ही गर्म जलवायु में आर्द्रता जोड़ता है। तापमान के लिहाज से जैसलमेर में गर्मी की किसी भी चीज की कल्पना करना कठिन है, लेकिन जब इसमें नमी डाली जाती है तो गर्मी से निपटने के लिए और भी बदतर हो जाती है। हालांकि, यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि अक्टूबर है जब मौसम बदलता है और सब कुछ ठंडा होने लगता है। <readmore> यह भी पर्यटक मौसम की शुरुआत को फिर से शुरू करता है। पर्यटक अक्टूबर में जैसलमेर के मौसम पर एक जुआ खेल सकते हैं क्योंकि एक मौका है कि उन्हें भीड़ के बिना अच्छा मौसम मिल सकता है जो आमतौर पर इसके साथ होता है।

जैसलमेर में सर्दी का मौसम
नवंबर-मार्च: नवंबर और मार्च के बीच के महीने जैसलमेर में सर्दियों के महीने होते हैं और इसे जैसलमेर घूमने के लिए आदर्श समय कहा जा सकता है। इन महीनों के दौरान रेगिस्तान से संबंधित सभी गतिविधियों और स्थलों का सबसे अच्छा आनंद लिया जा सकता है क्योंकि मौसम सुहावना होता है। अधिकतम 24 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम 5 डिग्री सेल्सियस के साथ, दिसंबर और जनवरी में जैसलमेर का मौसम काफी सुखद होता है, हालांकि यह कभी-कभी थोड़ा ठंडा हो सकता है। जैसलमेर में सर्दियों का मौसम अपने हनीमून पर कपल्स के लिए घूमने का सबसे अच्छा समय होता है। ऐसे कई अनुभव नहीं हैं जो एक तारों भरे आकाश के नीचे शिविर के रूप में रोमांटिक महसूस करते हैं। ठंड का मौसम इसे एक आरामदायक छुट्टी के लिए आदर्श बनाता है जो गंतव्य और एक साथी की कंपनी का आनंद लेती है। डेजर्ट फेस्टिवल फरवरी के महीने के दौरान भी होता है, आमतौर पर, सर्दियों में जैसलमेर में घूमने का आनंद मिलता है। हालांकि इन सभी चीजों के कारण, जैसलमेर इस समय पर्यटकों के साथ मोटा है और सब कुछ बस इतना ही महंगा है।

जैसलमेर कैसे पहुँचे

जोधपुर निकटतम हवाई अड्डा है, लगभग 300 कि.मी. वहां से कोई ट्रेन ले सकता है। जैसलमेर रेलवे के माध्यम से सभी प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। कोई 'पैलेस ऑन व्हील्स' द्वारा भी जैसलमेर पहुंच सकता है। शहर राज्य के बाकी शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है और अच्छी तरह से रखरखाव वाली सड़कें भी हैं

फ्लाइट से जैसलमेर कैसे पहुंचे
दिल्ली, मुंबई और बैंगलोर से जोधपुर के लिए नियमित उड़ानें हैं। एक दूसरे शहरों से इस जगह के लिए कनेक्टिंग फ्लाइट ले सकता है। जोधपुर हवाई अड्डे से जैसलमेर के लिए कैब लेना उचित है। सुरम्य दृश्य 4-5 घंटे की यात्रा को सार्थक बना देगा।

निकटतम हवाई अड्डा: जोधपुर हवाई अड्डा (JDH) - जैसलमेर से 225 किमी

सड़क मार्ग से जैसलमेर कैसे पहुंचे
जैसलमेर सड़कों के एक नेटवर्क के माध्यम से सबसे पास के शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। पर्यटकों के बीच इतना लोकप्रिय गंतव्य होने के कारण बसें भी आसानी से उपलब्ध हैं।

ट्रेन से जैसलमेर कैसे पहुंचे
जैसलमेर रेलवे नेटवर्क के मामले में वास्तव में अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। विशेष रूप से दिल्ली, जयपुर और जोधपुर जैसे शहरों के साथ "दिल्ली जैसलमेर एक्सप्रेस", "जोधपुर जैसलमेर एक्सप्रेस" और "हावड़ा जैसलमेर एक्सप्रेस" जैसी प्रमुख ट्रेनें हैं। रेलवे स्टेशन के बाहर रिक्शा और ऑटो आसानी से उपलब्ध हैं। आमतौर पर रेलवे स्टेशन से शहर के केंद्र तक एक ऑटो की सवारी के लिए लगभग 40-50 रुपये लगते हैं।

जैसलमेर का भोजन

उत्तर भारत के एक विशिष्ट राजस्थानी व्यंजन और सूक्ष्म प्रभावों में समृद्ध मांसाहारी भोजन का सिर्फ एक छोटा सा संकेत जोड़ें और आपको मिलने वाला समृद्ध और मुँह-पानी वाला मेनू जैसलमेर का भोजन होगा। मुरग-ए-सब्ज़ एक चिकन विनम्रता है जिसे आपको जैसलमेर में याद नहीं करना चाहिए। इसके साथ ही अन्य मांसाहारी तैयारी जैसे टिक्कस और कबाब भी हैं। इन केर सांगरी के अलावा, बैनोन एलो और कादी पकोरा लोकप्रिय हैं और यहाँ के भोजन को लगभग परिभाषित करते हैं।


--
#jaisalmerdiaries #jaisalmerfort #jaisalmerdesert #jaisalmertrip #jaisalmeranthem #jaisalmerairport #jaisalmerarchitecture #jaisalmerauniqueheritage #jaisalmerborder #jaisalmerbeats #jaisalmerbeauty #jaisalmercamp #jaisalmercamelsafari🐪 #jaisalmerestate #jaisalmerevent #jaisalmerevenings #jaisalmerfortpalacemuseum #jaisalmergoldencity #jaisalmerjaintemple #jaisalmerjodhpur #jaisalmerjourney #jaisalmerlake #jaisalmermemories #jaisalmernight #jaisalmernightlife #jaisalmernewyearstrip #jaisalmerstreets #jaisalmersunset #jaisalmervlog #jaisalmervisit

Comments

Popular posts from this blog

Best Car Rental Indore 9111157264

DBA Apply for Best A1 Cabs Franchise in India

Top 10 Airlines in the World in 2016