Bhubaneswar The Capital of Odisha

Bhubaneswar

By

Bhubaneswar is the capital of Odisha state and is popularly known as the “temple city of India”.  It is located on the south-west banks of Mahanadi River and lies in the eastern coastal plains.  

It is interesting to know that the name Bhubaneswar is derived from the word “Tribhubaneswara”, which means Lord (Eswara) of the three worlds (Tribhubana) which refers to Lord Shiva.

Bhubaneswar has about 400 temples of varying sizes mostly constructed during the 11th to 13th century period. Tourists and Pilgrims from all over the country visit this city to witness the magnificent Kalingan Architecture and the ancient Hindu temples built centuries ago.
It is believed that the Kalinga war took place at Dhauli, a place near Bhubaneswar city. The aftermath of the war had affected Ashoka so deeply, that he converted to Buddism. So, Bhubaneswar is also a Buddhists pilgrimage destination. Hmm...Interesting, isn't it?

Top 10 Popular Places to Visit in Bhubaneswar are:

1.      Lingaraj Temple 
Lingaraj Temple is the biggest temple in the city. It is dedicated to Lord Shiva and was built in the 10th or 11th century by King Jajati Keshari. It is one of the finest Hindu temples in India. It covers a vast area of 2,50,000 Sq ft and is built around Bindu Sagar Lake. A rare masterpiece is 55M high and it is entirely covered with stupendous carvings. The architecture and sculpture are fused elegantly.

If you are traveling to this city, Lingaraj Temple is the must-visit destination. The temple witnesses around 6000 visitors daily. On Shivratri, the most famous festival celebrated at the temple, the number increases to around 2,00,000 visitors.

Note- Non-Hindus are not permitted inside and even photography is not allowed within the temple complex.

2.      Bindu Sarovar
It is a large lake close to the Lingaraj temple. It is believed that it has a drop of every holy river of India. Visit this lake to take a dip in this pious and holy water.

3.      Parasurameswara Temple
It was constructed in 650 AD and is the oldest temple in Odisha. Here you can find around one thousand lingas, located in the north-west corner of the temple complex. 

It has amazing carvings of Lord Shiva, Lord Ganesha, and Goddess Parvati. The architectural brilliance and splendid carvings make this place an attractive destination.

4.      Khandagiri and Udayagiri Caves
Dating back to the 2nd Century, these caves are a major tourist destination. It has many inscriptions and figures carved beautifully in it. It is believed that these caves were built by Jain monks to pray and meditate.

The Khandagiri caves were dug during the reign of King Kharavela. The Rani Gumpha (Queen’s Cave) is one of the largest cave here. It is double-storied and it is enriched with stunning and elegant carvings. The Hati Gumpha(Elephant Cave) depicts the carved chronicles of King Kharavela’s reign. If you want to spend some quiet and quality time amidst nature, this place is for you.

5.      Dhauli Giri

Dhauli Giri Hills is located around 8 kms from the city. It is the resting place of emperor Ashoka. Down on the plains is a place, where he fought the Kalinga War in 261 BC. He witnessed bloodshed, which filled him with guilt and converted him to Buddhist.

Here you can see the Ashokan Rock Edict dated back to 3rd century BC. It is a huge piece of rock, with the inscriptions been carved on it. A sculpted elephant tops the rock edict. Tourists can also visit the Shanti Stupa built in 1969 by Indo-Japanese Collaboration. It is on the opposite hill.

6.      Rajarani Temple
Built-in the 11th century, this temple is locally known as “love temple”, as it has some sensuous carvings of couples. There is no deity inside the temple. Although, the figures of Lord Shiva and Goddess Parvati is carved on the walls of the temple.

The temple is under the supervision of the Archaeological Survey of India. You have to purchase a ticket to enter the premises of the temple.

7.      Mukteswara Temple
Mukteswara means “Lord of Freedom”. This temple is also dedicated to Lord Shiva and was built in the 10th century. It showcases the Kalingan style of architecture. It is 35 feet tall and has stunning carvings and sculptures portraying different Panchatantra stories.

8.      Nandankanan Zoological Park
Nandankanan Zoo was established in 1960. It is enthralling sanctuary built to preserve the flora and fauna in their natural form. It is mainly famous for white tigers. There is also a Botanical garden close to the zoo.

Timings in April-September: 7:30 – 5:30
Timings in October – March: 8:00 – 5:00
Closed on Mondays
Entry Fees for Adults – Rs 50, Children between 3-12 years – Rs 10, Foreigners – Rs 100.

9.      Deras Dam
Deras Dam is built amidst the mesmerizing and spellbinding surroundings of Chadaka Elephant Sanctuary. It was constructed for irrigation purposes.

The calm atmosphere, fresh cool breeze, the lush green trees and serene waters make this a magical and enduring place, which is just 20 kms away from the Bhubaneswar Baramunda Bus Stand in the city.

10.  Museum of Tribal Arts and Artefacts
Did you know that Odisha has the 3rd largest population of Schedule Tribes in India?
This museum introduces to the different cultures of around 62 tribes living in Odisha. It has a wide collection of tribal costumes, weapons, gears, jewelry, accessories, etc.

Entry Fee: No Entry Fee
Timings: 10:00 am – 5:00 pm

Other Popular places to visit in the city are:
Iskcon Temple, Odisha State Museum, Brahmeshwara Temple, Ekamra Kanan (Botanical Garden), Chausath Yogini Temple, Kedar Gauri Temple, Regional Museum of Natural History, Vaital Deul Temple, Nicco Park, Ananta Vasudev Temple, Ocean World Water Park, Netaji Subhash Chandra Bose Park, and Indira Gandhi Park.

Best time to Visit:
The summers in Bhubaneswar are hot and humid. It starts from March to May and the temperature touches above 45 degrees. The scorching heat makes traveling difficult around the city.
The city observes monsoon from June to September. Medium to heavy rainfalls is witnessed by the city. Bhubaneswar’s scenic beauty is enhanced during this time.
Winter season is observed from December to February when the temperature is around 12 degrees. 

So the best time to visit Bhubaneswar is between October to February, when the temperature is pleasant and ideal for exploring the city.

How to Reach Bhubaneswar by Flight:
Biju Patnaik International Airport is just 6 kms away from the city and connects to all the major cities of India by air. There are daily flights from cities like New Delhi, Chennai, Bangalore, Mumbai, Hyderabad, and Kolkata for Bhubaneswar.

How to Reach Bhubaneswar by Rail:
Bhubaneswar Railway Station is the main station in the eastern part of India. It connects to several Indian cities. There are superfast trains from all the metropolitan cities.

How to reach Bhubaneswar by Road:
Located around 5 km away from the city is the Baramunda Bus Stand, which connects Bhubaneswar to all the major cities by road. Regular Deluxe buses, Government buses, and AC coaches are available from most of the major cities like Kolkata, Hyderabad, Ranchi, Puri, Raipur, Konark, etc. If you are driving, then you can take NH 5 and NH 203.

Top  and Best Hotels for Accommodation:

  1. Swosti Premium Hotel – Rating – 4.0/5, Hotel Class – 5 star
  2. Trident Bhubaneswar– Rating - 4.5/5, Hotel Class – 5 star
  3. Pal Heights- Rating – 4.5/5, Hotel Class – 4 star
  4. Hotel Hindusthan International – Rating – 3.5/5, Hotel Class – 4 star
  5. Empires Hotel Bhubaneswar – Rating - 4.0/5, Hotel Class – 4 star
  6. Kalinga Ashok – Rating – 3.5/5, Hotel Class – 3.5 star
  7. Hotel Pushpak – Rating 4.0/5, Hotel Class – 3.5 star
  8. Ginger Bhubaneshwar - Rating – 4.5/5, Hotel Class – 3 star
  9. Treebo Trend Hotel Oasis - Rating – 4.5/5, Hotel Class – 3 star
  10. Mango Hotels – Prangan – Rating – 4.5/5, Hotel Class – 3 star

Best Food Items and Places to eat:

Bhubaneswar offers a wide variety of vegetarian and non-vegetarian dishes. But the most preferred food here is seafood and mouth-watering desserts. If you are visiting here, then you should try some authentic Oriya cuisine like Machha Jholo (a fish curry), Aloo Dum, Badi Choora, Dalma, Gupchup and much more. For Desserts, you should definitely try some Pithas, Rasabali, Kora-Khhaii, Chenna Poda, and Rasagola.

Top 10 Food Items which you should try in Bhubaneswar:

1.      Dahi Bara Aloo Dum
Dahi Bara Aloo Dum is the soul food of Odisha. You can get the best Dahi Bara Aloo Dum at Patia Square on the footpath, it will cost around Rs 30-40.

2.      Golgappas – popularly known as Gupchup in Odisha
You might have tasted Golgappas in every part of our country, but the Gupchup of Odisha is mouth-watering and different. It is stuffed with boiled potatoes, onions, green chilies, chutney, and masalas. It is dipped in tangy tamarind water before serving. If you eat Gupchup in Odisha, you will never forget its taste, it is simply amazing. You can eat from any street vendor, but the best place to try is – Madhusudan Park, near Pokhariput.

3.      Dalma
Dalma is the famous dish of Odisha. It is lentil cooked with vegetables with a bit of sourness. There is a restaurant named after this dish. So if you want to try Dalma, visit Dalma.

4.      Pakhala
The summers in Bhubaneswar is very hot, the temperature here crosses above 43 degrees. To beat the scorching heat, people here relish on Pakhala. It is a rice dish, mixed with curd, raw mango, curry leaves, ginger, masala, etc. To enjoy this authentic Odia cuisine, Dalma Restaurant should be the first choice for Pakhala. The restaurant hosts a 7-day ‘Pakhala Festival’ every year.

5.      ‘Baigan Bhaja,’ ‘Badi Ambula Chadchadi,’ ‘Bhindi Kurkure,’ and ‘Besara Bhaja.’
Sohola Ana Odia located in Unit IV area is yet another restaurant that serves Odia Cuisine. All the above dishes can be enjoyed here at reasonable prices.

6.      ‘Saga’ and ‘Badi Chura’
Mayfair Lagoon would be the first choice if you want to try Saga and Badi Chura. You can relish many Odia dishes here and enjoy the ambiance of the hotel. It is a fine dining restaurant that will fulfill all your food choices.

7.      ‘Maccha Ghanta’ and ‘Maccher Kalia with Aloo’
Maccha Ghanta is mainly prepared on the occasion of Durga Ashtami. It is prepared by cooking fish with onions, potatoes, brinjal, Chana Dal, spices, and masalas.
Maccher Kalia is a traditional dish, where Murrel fish is cooked with green mango and is served with a spicy and boiled potato. On any special occasion in Odisha, this dish is always cooked.
To enjoy these flavorsome dishes, you should visit Odisha Hotel, which serves them the best.

8.      Chungdi Malai
It is a creamy Prawn Curry made from coconut milk. This delicious and delightful dish is best served with basmati rice. If you are in Bhubaneswar, you must try this in Sohola Ana Odia restaurant.

9.      Murg Saagwala
It is a chicken dish cooked in spinach gravy. It is a little spicy and nutritious also. You can find the best of this dish in Narula’s restaurant.

10.  Chhena Poda
Pahala is the place, situated on the Bhubaneswar –Cuttack Highway. It has many stalls selling Chhena Poda, Chhena Goja and Roshogollas (rasgulla). If you have a sweet tooth, this place will amuse you.

Other Food Items to be enjoyed in Bhubaneswar:

1.      Lingraj Lassi
This Lassi shop is at Ram Mandir. It is the best lassi, you can find in the city. It is very tasty and is served in a lot in quantity, it is difficult for anyone to finish the entire glass.
2.      Bara Ghuguni
You can find it best in Ram Mandir or Delta Square.
3.      Chole Bhature
In a mood for some Chole Bhature in breakfast? The best place to have it is Hotel Priya. It is so famous, that every resident of this city must have visited this place for tasting it.
4.      South Indian Dishes
If you are looking for some south Indian delicacies, then Truptee Veg Restaurant will fulfill all your food wishes. It has a wide and a good collection of all the south Indian dishes, you will really enjoy them.
5.      Chinese
Craving for Chinese food? Silver Streak is the best Chinese restaurant in BMC Mall. You should try Pan-Fried Momos here.
6.      Biryani
Want to have some biryani? Shiraz restaurant has the best Biryani in the city. Chicken Biryani is best served in Jungle View Restaurant.

Top 10 and Best Restaurants in Bhubaneswar:
  1. Mayfair Lagoon – Rating 4.5/5
  2. MainLand China – Rating 4.0/5
  3. The Zaika – Rating 4.0/5
  4. Hare Krishna – Rating 4.0/5
  5. Bling It On – Rating 4.5/5
  6. Nakli Dabha – Rating 4.0/5
  7. Priya Restaurant – Rating 4.0/5
  8. Super Snax – Rating 4.5/5
  9. Truptee – Rating 4.0/5
  10. Odisha Hotel -– Rating 4.0/5   

To sum up,

Bhubaneswar is a land of the temple,
You can find devotees here in ample.

Dhauli was the place of the Kalinga War,
Tourists from across the country come here from far.

Visit many places here to get enchanted and allured,
There are many enthralling stories to unfold.

Dalma, Pakhala and Chhena Poda are popular dishes,
Enjoy them here to fulfill your food wishes.

So, what are you waiting for, Come here to create a memory,
And don’t forget to have a safe journey!



By
Nimisha Jaiswal  MBA [USA] CDCW, DMCA





भुवनेश्वर ओडिशा राज्य की राजधानी है और इसे "भारत के मंदिर शहर" के रूप में जाना जाता है। यह महानदी नदी के दक्षिण-पश्चिम तट पर स्थित है और पूर्वी तटीय मैदानों में स्थित है।
यह जानना दिलचस्प है कि भुवनेश्वर नाम "त्रिभुवनेश्वर" शब्द से लिया गया है, जिसका अर्थ है तीनों लोकों (त्रिभुवन) का भगवान (ईश्वर) जो भगवान शिव को संदर्भित करता है।
भुवनेश्वर में 11 से 13 वीं शताब्दी के दौरान निर्मित विभिन्न आकारों के लगभग 400 मंदिर हैं। देश भर के पर्यटक और तीर्थयात्री इस शहर में शानदार कलिंग वास्तुकला और सदियों पहले बने प्राचीन हिंदू मंदिरों के दर्शन के लिए जाते हैं।
ऐसा माना जाता है कि कलिंग युद्ध भुवनेश्वर शहर के पास धौली में हुआ था। युद्ध के बाद अशोक को इतनी गहराई से प्रभावित किया, कि वह बौद्ध धर्म में परिवर्तित हो गया। तो, भुवनेश्वर भी एक बौद्ध तीर्थ स्थल है। हम्म ... दिलचस्प है, है ना?
भुवनेश्वर में यात्रा करने के लिए शीर्ष 10 लोकप्रिय स्थान हैं:
1. लिंगराज मंदिर
लिंगराज मंदिर शहर का सबसे बड़ा मंदिर है। यह भगवान शिव को समर्पित है और 10 वीं या 11 वीं शताब्दी में राजा जाजति केशरी द्वारा बनवाया गया था। यह भारत के बेहतरीन हिंदू मंदिरों में से एक है। यह 2,50,000 वर्ग फुट के विशाल क्षेत्र को कवर करता है और बिंदू सागर झील के आसपास बनाया गया है। एक दुर्लभ कृति 55M ऊँची है और यह पूरी तरह से शानदार नक्काशी से ढकी है। वास्तुकला और मूर्तिकला का सुंदर रूप से उपयोग किया जाता है।

यदि आप इस शहर की यात्रा कर रहे हैं, तो लिंगराज मंदिर अवश्य जाना चाहिए। मंदिर में लगभग 6000 आगंतुक प्रतिदिन आते हैं। शिवरात्रि पर, मंदिर में सबसे प्रसिद्ध त्योहार मनाया जाता है, यह संख्या लगभग 2,00,000 आगंतुकों तक बढ़ जाती है।

नोट- गैर-हिंदुओं को अंदर जाने की अनुमति नहीं है और यहां तक ​​कि मंदिर परिसर के भीतर भी फोटोग्राफी की अनुमति नहीं है।

2. बिन्दु सरोवर
यह लिंगराज मंदिर के करीब एक बड़ी झील है। ऐसा माना जाता है कि इसमें भारत की हर पवित्र नदी की एक बूंद है। इस पवित्र और पवित्र जल में डुबकी लगाने के लिए इस झील पर जाएँ।
3. परशुरामेश्वर मंदिर
इसका निर्माण 650 ईस्वी में किया गया था और यह ओडिशा का सबसे पुराना मंदिर है। यहां आप मंदिर परिसर के उत्तर-पश्चिम कोने में स्थित एक हजार लिंगों को देख सकते हैं।
इसमें भगवान शिव, भगवान गणेश और देवी पार्वती की अद्भुत नक्काशी है। वास्तुकला की शानदारता और शानदार नक्काशी इस जगह को एक आकर्षक गंतव्य बनाती है।
4. खंडगिरि और उदयगिरि गुफाएं
2 वीं शताब्दी में वापस डेटिंग, ये गुफाएं एक प्रमुख पर्यटन स्थल हैं। इसमें कई शिलालेख और आंकड़े खुबसूरत रूप से उकेरे गए हैं। ऐसा माना जाता है कि इन गुफाओं का निर्माण जैन भिक्षुओं ने प्रार्थना और ध्यान करने के लिए किया था।
खंडागिरी गुफाओं को राजा खारवेल के शासनकाल के दौरान खोदा गया था। रानी गुम्फा (रानी की गुफा) यहाँ की सबसे बड़ी गुफा में से एक है। यह डबल-मंजिला है और यह आश्चर्यजनक और सुरुचिपूर्ण नक्काशी के साथ समृद्ध है। हाटी गुम्फा (हाथी गुफा) में राजा खारवेल के शासनकाल के नक्काशीदार क्रॉनिकल्स को दर्शाया गया है। अगर आप प्रकृति के बीच कुछ शांत और गुणवत्तापूर्ण समय बिताना चाहते हैं, तो यह जगह आपके लिए है।
5. धौली गिरि
धौली गिरि हिल्स शहर से लगभग 8 किलोमीटर दूर स्थित है। यह सम्राट अशोक का विश्राम स्थल है। मैदानों के नीचे एक जगह है, जहां उन्होंने 261 ईसा पूर्व में कलिंग युद्ध लड़ा था। उसने खून-खराबा देखा, जिसने उसे अपराधबोध से भर दिया और उसे बौद्ध में बदल दिया।
यहां आप अशोक रॉक एडिक्ट को तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व में वापस देख सकते हैं। यह चट्टान का एक विशाल टुकड़ा है, जिस पर शिलालेख खुदे हुए हैं। एक गढ़ा हुआ हाथी चट्टान के शीर्ष पर है। पर्यटक 1969 में इंडो-जापानी सहयोग से निर्मित शांति स्तूप का भी दौरा कर सकते हैं। यह विपरीत पहाड़ी पर है।
6. राजरानी मंदिर
11 वीं शताब्दी में निर्मित, इस मंदिर को स्थानीय रूप से "प्रेम मंदिर" के रूप में जाना जाता है, क्योंकि इसमें जोड़ों की कुछ कामुक नक्काशी की गई है। मंदिर के अंदर कोई भी देवता नहीं है। हालांकि, मंदिर की दीवारों पर भगवान शिव और देवी पार्वती की आकृतियां उकेरी गई हैं।
मंदिर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की देखरेख में है। आपको मंदिर के परिसर में प्रवेश करने के लिए टिकट खरीदना होगा।
7. मुक्तेश्वर मंदिर
मुक्तेश्वर का अर्थ है "स्वतंत्रता के भगवान"। यह मंदिर भी भगवान शिव को समर्पित है और 10 वीं शताब्दी में बनाया गया था। यह वास्तुकला की कलिंगन शैली को दर्शाता है। यह 35 फीट लंबा है और इसमें विभिन्न पंचतंत्र की कहानियों को चित्रित करने वाली शानदार नक्काशी और मूर्तियां हैं।
 8. नंदनकानन जूलॉजिकल पार्क
नंदनकानन चिड़ियाघर की स्थापना 1960 में की गई थी। यह अपने प्राकृतिक रूप में वनस्पतियों और जीवों के संरक्षण के लिए बनाया गया अभयारण्य है। यह मुख्य रूप से सफेद बाघों के लिए प्रसिद्ध है। चिड़ियाघर के करीब एक बोटैनिकल गार्डन भी है।
अप्रैल-सितंबर में समय: 7:30 - 5:30
अक्टूबर में समय - मार्च: 8:00 - 5:00 बजे
सोमवार को बंद रहता है
वय के लिए प्रवेश शुल्क - 50 रुपये, 3-12 वर्ष के बच्चे - 10 रुपये, विदेशी - 100 रुपये।
9. डारस बांध
चादका हाथी अभयारण्य के घिरे और मंत्रमुग्ध करने के बीच डारस बांध बनाया गया है। इसका निर्माण सिंचाई उद्देश्यों के लिए किया गया था।  शांत वातावरण, ताजा ठंडी हवा, हरे-भरे पेड़
जाने का सबसे अच्छा समय:
भुवनेश्वर में गर्म और आर्द्र हैं। यह मार्च से मई तक शुरू होता है और तापमान 45 डिग्री से ऊपर पहुंच जाता है। चिलचिलाती गर्मी शहर के चारों ओर यात्रा करना मुश्किल बना देती है।
शहर जून से सितंबर तक मानसून का अवलोकन करता है। शहर में मध्यम से भारी वर्षा देखी जाती है। भुवनेश्वर की प्राकृतिक सुंदरता इस समय के दौरान बढ़ जाती है।
दिसंबर से फरवरी तक सर्दियों का मौसम देखा जाता है जब तापमान 12 डिग्री के आसपास होता है।
तो भुवनेश्वर घूमने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से फरवरी के बीच है, जब शहर को देखने के लिए तापमान सुखद और आदर्श होता है।
फ्लाइट से भुवनेश्वर कैसे पहुंचे:
बीजू पटनायक अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा शहर से सिर्फ 6 किलोमीटर दूर है और भारत के सभी प्रमुख शहरों से हवाई मार्ग से जुड़ता है। भुवनेश्वर के लिए नई दिल्ली, चेन्नई, बैंगलोर, मुंबई, हैदराबाद और कोलकाता जैसे शहरों से दैनिक उड़ानें हैं।

रेल द्वारा भुवनेश्वर कैसे पहुँचें:
भुवनेश्वर रेलवे स्टेशन भारत के पूर्वी भाग का मुख्य स्टेशन है। यह कई भारतीय शहरों से जुड़ता है। सभी महानगरों से सुपरफास्ट ट्रेनें हैं।
सड़क मार्ग से भुवनेश्वर कैसे पहुंचे:
शहर से लगभग 5 किमी दूर स्थित बारामुंडा बस स्टैंड है, जो सड़क मार्ग से भुवनेश्वर को सभी प्रमुख शहरों से जोड़ता है। कोलकाता, हैदराबाद, रांची, पुरी, रायपुर, कोणार्क, आदि जैसे अधिकांश प्रमुख शहरों से नियमित डीलक्स बसें, सरकारी बसें और एसी कोच उपलब्ध हैं, अगर आप गाड़ी चला रहे हैं, तो आप NH 5 और NH 203 ले सकते हैं।
शीर्ष 10 और आवास के लिए सर्वश्रेष्ठ होटल:
स्वॉस्टी प्रीमियम होटल - रेटिंग - 4.0 / 5, होटल क्लास - 5 स्टार
ट्राइडेंट भुवनेश्वर- रेटिंग- 4.5 / 5, होटल क्लास - 5 स्टार
पाल हाइट्स- रेटिंग - 4.5 / 5, होटल क्लास - 4 स्टार
होटल हिंदुस्तान इंटरनेशनल - रेटिंग - 3.5 / 5, होटल क्लास - 4 स्टार
एम्पायर होटल भुवनेश्वर - रेटिंग - 4.0 / 5, होटल क्लास - 4 स्टार
कलिंग अशोक - रेटिंग - 3.5 / 5, होटल क्लास - 3.5 स्टार
होटल पुष्पक - रेटिंग 4.0 / 5, होटल क्लास - 3.5 स्टार
जिंजर भुवनेश्वर - रेटिंग - 4.5 / 5, होटल क्लास - 3 स्टार
ट्रीबो ट्रेंड होटल ओएसिस - रेटिंग - 4.5 / 5, होटल क्लास - 3 स्टार
मैंगो होटल - प्रांगण - रेटिंग - 4.5 / 5, होटल क्लास - 3 सितारा
सर्वश्रेष्ठ खाद्य पदार्थ और खाने के लिए स्थान:
भुवनेश्वर विभिन्न प्रकार के शाकाहारी और मांसाहारी व्यंजन प्रदान करता है। लेकिन यहां सबसे पसंदीदा भोजन सीफूड और माउथ-वॉटरिंग डेसर्ट हैं। यदि आप यहां आ रहे हैं, तो आपको माच झोलो (मछली की करी), आलू दम, बादी चूरमा, दलमा, गुपचुप जैसे कुछ प्रामाणिक उड़िया व्यंजनों की कोशिश करनी चाहिए। डेसर्ट के लिए, आपको कुछ पिठास, रासबली, कोरा-खैई, चेन्ना पोड़ा, और रासोला को जरूर आजमाना चाहिए।
खाद्य पदार्थ जो आपको भुवनेश्वर में आज़माने चाहिए:
1. दही बार आलू दम
दही बार आलू दम ओडिशा का आत्मा भोजन है। पाथिया चौराहे पर पाथिया चौराहे पर आपको सबसे अच्छा दही बरो आलू मिल सकता है, इसकी कीमत लगभग 30-40 रुपये होगी।
2. गोलगप्पों - ओडिशा में गुपचुप के रूप में लोकप्रिय
आपने हमारे देश के हर हिस्से में गोलगप्पों का स्वाद चखा होगा, लेकिन ओडिशा का गुपचुप मुंह और पानी अलग है। यह उबले हुए आलू, प्याज, हरी मिर्च, चटनी और मसाला के साथ भरवां है। सेवा करने से पहले इसे टेंगी इमली के पानी में डुबोया जाता है। यदि आप ओडिशा में गुपचुप खाते हैं, तो आप इसके स्वाद को कभी नहीं भूलेंगे, यह आश्चर्यजनक है। आप किसी भी स्ट्रीट वेंडर से खा सकते हैं, लेकिन कोशिश करने के लिए सबसे अच्छी जगह है - पोखरीपूत के पास मधुसूदन पार्क।
3. दलमा
दलमा ओडिशा का प्रसिद्ध व्यंजन है। यह दाल के साथ थोड़ी खट्टी सब्जियों के साथ पकाया जाता है। इस डिश के नाम पर एक रेस्तरां है। इसलिए यदि आप दलमा को आज़माना चाहते हैं, तो दलमा जाएँ।
4. पखला
भुवनेश्वर में ग्रीष्मकाल बहुत गर्म होता है, यहाँ का तापमान 43 डिग्री से ऊपर चला जाता है। चिलचिलाती गर्मी को मात देने के लिए यहां के लोग पाखला पर खुशी मनाते हैं। यह एक चावल का व्यंजन है, जिसे दही, कच्चे आम, करी पत्ते, अदरक, मसाला, आदि के साथ मिलाया जाता है। इस प्रामाणिक ओडिया व्यंजनों का आनंद लेने के लिए, दलमा रेस्तरां पखला की पहली पसंद होना चाहिए। रेस्तरां हर साल 7-दिन का hala पखला महोत्सव ’आयोजित करता है।

5. i बैगन भजा, '‘बदी अंबुला चड्चड़ी,' 'भिंडी कुर्कुरे,' और 'बेसारा भजा।'
यूनिट IV क्षेत्र में स्थित सोहोला एना ओडिया अभी तक एक और रेस्तरां है जो ओडिया भोजन परोसता है। उपरोक्त सभी व्यंजनों का उचित मूल्य पर आनंद लिया जा सकता है।
6. 6. सागा ’और‘ बादी चुरा ’
अगर आप सागा और बादी चुरा को आजमाना चाहते हैं तो मेफेयर लैगून पहली पसंद होगी। आप यहां कई ओडिया व्यंजनों का आनंद ले सकते हैं और होटल के माहौल का आनंद ले सकते हैं। यह एक अच्छा भोजन रेस्तरां है जो आपके भोजन के सभी विकल्पों को पूरा करेगा।
7. ‘माचा घण्टा 'और' माचो कालिया एलो के साथ '
माचा घण्टा मुख्य रूप से दुर्गा अष्टमी के अवसर पर तैयार किया जाता है। यह प्याज, आलू, बैंगन, चना दाल, मसाले और मसालों के साथ मछली पकाकर तैयार किया जाता है।
मैकर कालिया एक पारंपरिक व्यंजन है, जहाँ मुर्रेल मछली को हरे आम के साथ पकाया जाता है और मसालेदार और उबले हुए आलू के साथ परोसा जाता है। ओडिशा में किसी भी विशेष अवसर पर, यह व्यंजन हमेशा पकाया जाता है।
इन जायकेदार व्यंजनों का आनंद लेने के लिए, आपको ओडिशा होटल जाना चाहिए, जो उन्हें सबसे अच्छी सेवा प्रदान करता है।
8. चुंगड़ी मलाई
यह एक क्रीमी प्रॉन करी है




Barkha Negi Nagee 
Co-Founder
Alfa Tours And Travels 
G3-Nagee Palace, Sai Baba Nagar, Navghar Road, 
Bhayandar [East], Thane 401105 India
+91 77188 09030
Barkha@alfatravelblog.com
www.AlfaTravelBlog.com
https://www.facebook.com/barkha.nagee
https://twitter.com/NageeNegi?s=08
https://www.linkedin.com/in/barkha-nagee-484a01197
https://www.instagram.com/barkhaneginagee/

https://www.portrait-business-woman.com/2019/11/barkha-negi-nagee.html
















































#bhubaneswar, #bhubaneswartemple, #bhubaneswartemplecity, #bhubaneswartemples, #bhubaneswardiaries, #bhubaneswartravel, #bhubaneswartrip, #bhubaneswartravels, #bhubaneswarvacation, #bhubaneswarvisit, #bhubaneswarplaces, #bhubaneswarplace, #bhubaneswartour, #bhubaneswarsmartcity, #bhubaneswarairport, #bhubaneswarblog, #bhubaneswarindia, #bhubaneswarhotels,

Comments

  1. Interesting facts about this temple city. Just a single city in odisha has so much in-store in it, imagine how much more odisha has to offer.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

Application for Internship with AlfaTravelBlog

DBA Apply for Best A1 Cabs Franchise in India

All In One Travel Booking Apps