Varanasi is the India of Your Imagination

#Varanasi
#Festivals of Varanasi
#Places to Visit in Varanasi
#Food of Varanasi
#Best time to Visit Varanasi
#How to Reach Varanasi
#Local transport in Varanasi
#Hotels in Varanasi
Varanasi is the India of Your Imagination. It is one of the oldest continuously inhabited cities in the world, and one of the holiest places in Hinduism. Pilgrims come to the Ganges to wash away sins in the holy waters, to cremate their loved ones or to die here in the hope of liberation from the cycle of rebirth.
Varanasi is known as the city of the Ghats. Varanasi is one of the seven holy cities of India. Varanasi is also known as Banaras and Kashi.
Varanasi is one of the most prominent holy cities of India that beholds the sight of pilgrims from all over the country. The huge ghats and temples along with many other places to visit in Varanasi make it a major tourist attraction every year. Not only foreign tourists, but Indians also like to visit Varanasi due to its peaceful and spiritual aura. Though the city is known for its temples, ghats and music, there are many other famous places in Varanasi that must be seen and experienced on your Varanasi tour package. Varanasi is considered one of the oldest continuously operating cities in the world with a history of 7000 years.

#Varanasi Festivals

1. Makar Sankranti

The festival is celebrated by different names across the country such as Pongal, Lohri and others. It is a festival of kites. People fly kites and the sky is filled with colorful flying paper. This is the best time for photography here. The top dishes to enjoy during this festival are badmapatti, tilakut, dahichchuda, khichdi, and others.

2. Mahashivratri

It is an important festival for those who worship Lord Shiva. According to mythology, Lord Shiva drank the deadliest poison to save the world. There are many other stories for the origin of this festival. People fast and stay awake overnight. Many rituals and cuisines are famous during this festival. According to literature, this festival has been a part of Hinduism even before 5 BC.

3. Shravan Maah

Sawan or Shravan is a Hindu month that begins in mid-July and ends by mid-August. It is called Avni in Tamil. This festival is associated with welcome rain. People fast every Monday / Tuesday and worship Lord Parvati (Tuesday) or Lord Shiva (Monday). During this festival, people offer milk to Lord Shiva, wear rudraksh, chant and fast.

4. Dev Diwali or Karthikeya Deepam

On the 15th day of Diwali, people celebrate this festival by lighting hundreds of small kerosene lamps around their house. Ghats in the river will be decorated with lamps and people will light lamps on the river. A good festival for photography. Fireworks are lit throughout the night, processions of deities can be seen on the road from many temples and many other activities are common during this festival.

5. Holi

It is the most colorful festival in India. People throw color powder and water at each other to celebrate. Many wear exclusively white clothes to enjoy this festival. This festival marks the victory of good over evil. You can find dance performances, color games and other activities during this festival. Morning rituals are common in temples.

6. Ganga Dussehra

It is a festival for the river Ganges. People consider the river Ganges as a goddess that provides a source of fertility, prosperity and agriculture. This day marks the descent of the river from heaven. During this day, it is believed that bathing in the river can wash away ten deadly sins of humans. People light a lamp in the river like Ganga Aarti.

#Places to Visit in Varanasi

1.Assi Ghat

Located in the far south is the Asi Ghat, where pilgrims pay homage to Lord Shiva by worshiping a huge linga situated under the Peepal tree. This ghat is a lively place, rippling in chaos and uproar and one that reflects the antiquity of Kashi. One should visit Assi Ghat, one of the most famous religious places in Varanasi. The attractive view of the Aarti here makes Varanasi one of the most beautiful cities in India.

2. Dashashwamedh Ghat

The main ghat on the Ganges River in Varanasi, the Dashashwamedh Ghat is a splendid place known for its spiritual transit. It is common knowledge that Lord Brahma sacrificed 10 horses in a yajna here, and thus got the name. Dashashwamedh Ghat tops the list of night time tourist destinations in Varanasi as it is an attractive place to stay in this small town. Stay here for Agni Puja or Ganga Aarti, as it is popularly called.

3. Manikarnika Ghat – The Prime Cremation Ghat In Varanasi

Considered an auspicious place for cremation, Manikarnika Ghat is one of the important places in Varanasi. This ghat itself is an exquisite and shocking experience because nothing is considered sacred here. Bowls of flowers floating in the holy Ganges River with pyramids shining with the holy sun and the Ganges overlook the Manikarnika Ghat.

4. Shivala Ghat - Reflection of the past

Shivala Ghat is another excellent place to visit in Varanasi which reflects the history of the city. A famous attraction to see here is the Shiva temple which was built by a Nepali king in the 19th century. The magnificent architecture here is definitely something that will surprise you and so do the craftsmanship of the temple. If you want to take a dip in the holy water, then this is a place you must visit.

5. Ahilyabai Ghat

Known as the Keolagiri Ghat, the place is the first city of its kind, named after this person, such as Rani Ahilyabai Holkar. When you can visit this Ghat at any time, the best time of the morning is when you can see Hindu devotees taking a dip with the belief that it will clear their sin and the beauty of the Ghat is the best. Will see as

6. Rana Mahal Ghat

Built by King Rana Jagat Singh when he came to the city as a pilgrim, this ghat attracts tourists a lot in and out of the day. It is situated right next to a palace, which is believed to have been the Maharaja's residence during the pilgrimage. If architecture is something that tickles your fans, there is a lot to see and admire here.

7. Panchganga Ghat

There is no doubt that Varanasi is full of innumerable ghats, but the Panchganga Ghat definitely stands out. It is believed that there is a mythological meeting place of the five holy rivers, this place has pictures of five goddesses like Ganga, Yamuna, Saraswati, Dhootapap and Kiran. Many travelers stop here to seek blessings and soak up some of the peaceful atmosphere of the place.

8.  Causatthi Ghat

Famous for the famous Sanskrit scholar Madhusudan Saraswati's shelter and its palace built by King Digbatiya of Champaran, Bihar, the ghat is one of its kind. It also has a temple complex with images of Goddess Kali. And on occasions like Chaitra's Holi and the 12th dark half, this place welcomes tourists in large numbers.



9. Kashi Vishwanath Temple

The list of places would be incomplete without including the famous Kashi Vishwanath temple in Varanasi. Dedicated to Lord Shiva, this temple is one of the 12 Jyotirlingas and is also referred to in sacred texts. The structure of the temple today consists of a series of small temples located in Vishwanath Gali.


10. Tulsi Manas Temple

Tulsi Manas Temple is among the many sights in Varanasi, where Tulsidas wrote the Hindu epic Ramayana in Awadhi dialect of Hindi language. The temple was funded by the Birla family and was built in 1964 from white marble. The verses and scenes of Ramcharitmanas are carved on the walls of the temple.

Some more Places to Visit in Varanasi

Durga Temple, Varanasi, Tibetan Temple, Varanasi, Nepali temple, Sankat Mochan Hanuman Temple, Kedar Ghat
Bharat Mata Mandir, Bharat Mata Mandir, Alamgir Mosque, Shivala Ghat, Manmandir Ghat, Ramnagar Fort, Bharat Kala Bhavan Museum, Gyan Vapi Well, Chunar Fort, Vishwanath Gali, Chinese Temple, ISKCON Varanasi, St Mary's Church, Varanasi, Ganga Aarti, Varanasi, Yoga, Varanasi, Varanasi Fun City, Aqua World, Vindham Waterfalls, Lakhaniya Dari Waterfall, Rajdari Waterfalls, Devdari Waterfall, Mukkha Falls, Tanda Falls, Ganga Mahotsav 2019, Varanasi, Ramnagar Ramlila at Varanasi, Sita Samahit Sthal.

# Food of Varanasi

The cuisine of Varanasi has a distinct color with a definite influence of the cuisine and styles of Bihar included in its cuisine. Popular delicacies of the region include sweets like Dum Aloo, Baati Chokha, Aloo-Tikki, Pani Puri, Kachori, Tamra Chaat as well as Jalebi, Rabri, and Banarasi Kalakand. Another essential flavor of the city is the fragility of its paan, betel nut. In addition to these, try out butter toast with warm milk, usually flavored almonds. Also, try local drinks like lassi and almond sorbet. Varanasi is also famous for its coolness, which is a milk-based drink with added hemp, a form of hemp in India. In addition to traditional and local flavors, you will find many options for continental and typical Indian food. When in Varanasi, you can explore the variety of food from delicious street food to many of the eighties cafes. The city really has it all!



1. Kachori Sabzi
2. Chena Dahi Vada
3. Malaiyyo
4. Choora Matar
5. Thandai And Lassi
6. Dahi Chutney Wale Gol Gappe
7. Laaiya Chana
8. Baati Chokha
9. Tamatar Chaat

# Best time to visit Varanasi

The best time to visit Varanasi is from winter (November - February) to low temperatures and cool breeze throughout the day. Summers in Varanasi experience high and dry temperatures. It is best to avoid summer as they are hot dry and make outdoor sightseeing difficult. The monsoon is a pleasant change, with moderate to heavy rainfall, while winter is the best time to visit Varanasi, which enhances its beauty to a great extent due to the wonderful weather conditions.


1. Summer of Varanasi - April to June

Summer begins in mid-March. However, April is officially the beginning of the season and it ends by June. It will be soothing in early summer and from there, temperature and humidity begin to rise. The peak summer temperatures will rise to 45 degrees Celsius. Although it is a lean tourist season, summer is favored by those looking for better deals in hotels and travel. Also, you to explore the temple without the crowds. Rituals, religious processions and festivals are common in summer.

Temperatures range between 32 ° C and 45 ° C. Rainfall is rare but accompanied by thunder. During this season, hot dry winds called 'Lu' are quite common.

2. Monsoon of Varanasi - July to September

Thanks to the Ganges River, the monsoon will be moderately heavy in this region. Sudden recession and continuous rains are common from July to September. If you are searching for Varanasi, it becomes very difficult, because the rain will be an obstacle in your journey. If the rains are heavy, many activities can be stopped, including the Ganges cruise. On the other hand, photographic travelers enjoy the prime beauty of Varanasi during the rains. Rainfall is normal and the temperature will drop significantly. However, the humidity will be higher.

3. Winter of Varanasi - October to March

Winter is the main tourist season for Varanasi. The night is cold and the weather in the morning is pleasant. Thus, you will be able to explore the area without exhaustion. In addition, the winter season hosts many religious festivals and celebrations. Catching Varanasi in a festive mood will be quite a sight.

# How to reach Varanasi

The Varanasi train is connected by road as well as by air. It has two major railway stations, Varanasi Junction and Mughal Sarai Junction. The city has its own airport with daily flights to Mumbai and Delhi. Buses are also available.

1. How to reach Varanasi by flight

Varanasi has an international airport, and although many international flights do not come directly to Varanasi, almost all domestic airlines operate regular flights from this city. Jet Airways, Air India and Spice Jet operate the most frequent flights.

2. How to reach Varanasi by road

Road connectivity to Varanasi is well maintained and convenient, and most tourists traveling to Uttar Pradesh usually club in two or three nearby cities and travel between the roads. Located within driving distance of nearby cities like Allahabad, Kanpur and Gorakhpur. National Highway 19 is the main link route.

3. How to reach Varanasi by train

Varanasi is a major railway station and almost all trains passing through North India go to Varanasi. Mughal Sarai Junction is another major station which is 18 km from the main city and has trains coming from cities across India.

# Local Transport in Varanasi

Bicycle rickshaws, as well as auto-rickshaws, are available in Varanasi for travel in local areas. Mini buses are also available within the city. Boats are used for Ganga river tours.

# Hotel in Varanasi

1.Taj Nadesar Palace
2.Rivatas By Ideal
3.BrijRama Palace- A Heritage Hotel
4.Tree of Life Resort & Spa, Varanasi
5.Comfort Inn Benares
6.Suryauday Haveli - An Amritara Resort
7.Hotel Grapevine
8.Hotel Uday Palace
9.Hotel Vibhavharsh
10.Hotel Buddha




Barkha Negi Nagee 
Co-FounderAlfa Tours And Travels 
G3-Nagee Palace, Sai Baba Nagar, Navghar Road,
Bhayandar [East], Thane 401105 India
+91 77188 09030
Barkha@alfatravelblog.com
www.AlfaTravelBlog.com
=======================================
# वाराणसी
# वाराणसी के त्यौहार
# वाराणसी में घूमने की जगहें
# वाराणसी का भोजन
# वाराणसी घूमने का सबसे अच्छा समय
# वाराणसी कैसे पहुंचे
# वाराणसी में स्थानीय परिवहन
# वाराणसी में होटल


वाराणसी आपकी कल्पना का भारत है। यह दुनिया के सबसे पुराने लगातार बसे शहरों में से एक है, और हिंदू धर्म के सबसे पवित्रतम स्थानों में से एक है। तीर्थयात्री पवित्र जल में पापों को धोने के लिए, अपने प्रियजनों का अंतिम संस्कार करने के लिए या पुनर्जन्म के चक्र से मुक्ति की उम्मीद में यहां मरने के लिए गंगा में आते हैं।
वाराणसी को घाटों के शहर के रूप में जाना जाता है। वाराणसी भारत के सात पवित्र शहरों में से एक है। वाराणसी को बनारस और काशी के रूप में भी जाना जाता है। वाराणसी भारत का एक सबसे प्रमुख पवित्र शहर है जो पूरे देश के तीर्थयात्रियों की दृष्टि को निहारता है। वाराणसी में घूमने के लिए कई अन्य स्थानों के साथ विशाल घाट और मंदिर हर साल पर्यटकों का एक प्रमुख आकर्षण बनाते हैं। केवल विदेशी पर्यटक ही नहीं, बल्कि भारतीय भी अपनी शांतिपूर्ण और आध्यात्मिक आभा के कारण वाराणसी जाना पसंद करते हैं। हालाँकि, यह शहर अपने मंदिरों, घाटों और संगीत के लिए जाना जाता है, लेकिन वाराणसी में कई अन्य प्रसिद्ध स्थान हैं, जिन्हें आपके वाराणसी टूर पैकेज पर अवश्य देखा और अनुभव किया जाना चाहिए। वाराणसी को 7000 वर्षों के इतिहास के साथ दुनिया के सबसे पुराने लगातार शहरों में से एक माना जाता है।

# वाराणसी के त्योहार

1. मकर संक्रांति

यह त्योहार पूरे देश में अलग-अलग नामों से मनाया जाता है जैसे पोंगल, लोहड़ी और अन्य। यह पतंगों का त्यौहार है। लोग पतंग उड़ाते हैं और आसमान रंग-बिरंगे फ्लाइंग पेपर से भर जाता है। यहां फोटोग्राफी के लिए यह सबसे अच्छा समय है। इस त्यौहार के दौरान आनंद लेने के लिए शीर्ष व्यंजनों में बैडमपट्टी, तिलकुट, दहीचुडा, खिचड़ी, और अन्य हैं।

2. महाशिवरात्रि

यह उन लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण त्योहार है जो भगवान शिव की पूजा करते हैं। पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान शिव ने दुनिया को बचाने के लिए सबसे घातक जहर पी लिया। इस त्योहार की उत्पत्ति के लिए कई अन्य कहानियां हैं। लोग उपवास करते हैं और रात भर जागते हैं। इस त्योहार के दौरान कई अनुष्ठान और व्यंजनों प्रसिद्ध हैं। साहित्य के अनुसार, यह त्यौहार 5 ईस्वी पूर्व भी हिंदू धर्म का हिस्सा रहा है।

3. श्रवण मास

सावन या श्रावण एक हिंदू महीना है जो जुलाई के मध्य में शुरू होता है और अगस्त के मध्य तक समाप्त होता है। इसे तमिल में अवनी कहा जाता है। यह त्योहार स्वागत योग्य वर्षा से जुड़ा हुआ है। लोग प्रत्येक सोमवार / मंगलवार को उपवास रखते हैं और भगवान पार्वती (मंगलवार) या भगवान शिव (सोमवार) की पूजा करते हैं। इस त्योहार के दौरान लोग भगवान शिव को दूध चढ़ाते हैं, रुद्राक्ष पहनते हैं, जाप करते हैं और उपवास करते हैं।

4. देव दीवाली या कार्तिकेय दीपम

दीवाली के 15 वें दिन, लोग अपने घर के आसपास सैकड़ों छोटे मिट्टी के तेल के दीपक जलाकर इस त्योहार को मनाते हैं। नदी में घाटों को दीपकों से सजाया जाएगा और लोग नदी पर दीप जलाएंगे। फोटोग्राफी के लिए एक अच्छा त्यौहार। रात भर पटाखे जलाए जाते हैं, कई मंदिरों से देवताओं के जुलूस को सड़क पर देखा जा सकता है और इस त्योहार के दौरान कई अन्य गतिविधियां आम हैं।

5. होली

यह भारत में सबसे रंगीन त्योहार है। लोग जश्न मनाने के लिए एक दूसरे पर रंग पाउडर और पानी फेंकते हैं। कई इस त्योहार का आनंद लेने के लिए विशेष रूप से सफेद कपड़े पहनते हैं। यह त्योहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। आप इस त्यौहार के दौरान नृत्य प्रदर्शन, रंग खेल और अन्य गतिविधियों को पा सकते हैं। सुबह के अनुष्ठान मंदिरों में आम हैं।

6. गंगा दशहरा

यह गंगा नदी के लिए एक त्योहार है। लोग गंगा नदी को एक ऐसी देवी मानते हैं जो उर्वरता, समृद्धि और कृषि का स्रोत प्रदान करती है। यह दिन स्वर्ग से नदी के वंश को दर्शाता है। इस दिन के दौरान, यह माना जाता है कि नदी में स्नान करने से मनुष्य के दस घातक पाप धुल सकते हैं। लोग गंगा आरती की तरह ही नदी में दीप जलाते हैं।

# वाराणसी में घूमने की जगहें

1. अस्सी घाट

दूर दक्षिण में स्थित, असी घाट है, जहाँ तीर्थयात्री पीपल के पेड़ के नीचे स्थित एक विशाल लिंग की पूजा करके भगवान शिव को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। यह घाट एक जीवंत जगह है, अराजकता और हंगामा में चीरता है और एक जो काशी की प्राचीनता को दर्शाता है। वाराणसी में सबसे प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से अस्सी घाट का दौरा करना चाहिए। यहां की आरती का आकर्षक नजारा वाराणसी को भारत के सबसे खूबसूरत शहरों में से एक बनाता है।

2. दशाश्वमेध घाट

वाराणसी में गंगा नदी पर मुख्य घाट, दशाश्वमेध घाट एक तेजतर्रार स्थान है जो अपने आध्यात्मिक पारगमन के लिए जाना जाता है। यह सामान्य ज्ञान है कि भगवान ब्रह्मा ने यहां एक यज्ञ में 10 घोड़ों की बलि दी, और इस प्रकार यह नाम पड़ा। वाराणसी में रात के समय पर्यटन स्थलों की सूची में दशाश्वमेध घाट सबसे ऊपर है क्योंकि यह इस छोटे से शहर में रहने के लिए एक आकर्षक स्थान है। अग्नि पूजा या गंगा आरती के लिए यहां रहें, क्योंकि इसे लोकप्रिय कहा जाता है।

3. मणिकर्णिका घाट - वाराणसी में प्रमुख श्मशान घाट

अंतिम संस्कार के लिए एक शुभ स्थान माना जाता है, मणिकर्णिका घाट वाराणसी में महत्वपूर्ण स्थानों में से एक है। यह घाट अपने आप में एक अति सुंदर और चौंकाने वाला अनुभव है क्योंकि यहाँ कुछ भी पवित्र नहीं माना जाता है। पवित्र सूर्य और गंगा के साथ चमकते हुए पिरामिडों के साथ पवित्र गंगा नदी में तैरते फूलों के कटोरे मणिकर्णिका घाट को निहारते हैं।

4. शिवाला घाट - अतीत का प्रतिबिंब

शिवाला घाट वाराणसी में घूमने के लिए एक और बेहतरीन जगह है जो शहर के इतिहास को दर्शाता है। यहां देखने के लिए एक प्रसिद्ध आकर्षण शिव मंदिर है जिसे 19 वीं शताब्दी में एक नेपाली राजा द्वारा बनाया गया था। यहाँ की शानदार वास्तुकला निश्चित रूप से कुछ ऐसा है जो आपको आश्चर्यचकित कर देगी और इसी तरह मंदिर की शिल्पकारी भी। यदि आप पवित्र जल में डुबकी लगाना चाहते हैं, तो यह एक जगह है जहाँ आपको अवश्य जाना चाहिए।

5. अहिल्याबाई घाट

केवलागिरि घाट के रूप में जाना जाता है, यह स्थान अपनी तरह का पहला शहर है, जिसे इस व्यक्ति के नाम पर रखा गया है, जैसे कि रानी अहिल्याबाई होलकर। जब आप किसी भी समय इस घाट पर जा सकते हैं, तो सुबह का सबसे अच्छा समय होता है जब आप हिंदू भक्तों को इस विश्वास के साथ डुबकी लगाते हुए देख सकते हैं कि यह उनके पाप को साफ कर देगा और घाट की सुंदरता को सबसे अच्छे रूप में देखेगा।

6. राणा महल घाट

राजा राणा जगत सिंह द्वारा उस समय बनाया गया जब वह एक तीर्थयात्री के रूप में शहर में आए थे, यह घाट पर्यटकों को दिन में और बाहर बहुत आकर्षित करता है। यह एक महल के ठीक बगल में स्थित है, जिसके बारे में माना जाता है कि यह तीर्थयात्रा के दौरान महाराजा का निवास था। अगर वास्तुकला ऐसी चीज है जो आपके फैंस को गुदगुदाती है, तो यहां देखने और प्रशंसा करने के लिए बहुत कुछ है।

7. पंचगंगा घाट

कोई शक नहीं कि वाराणसी असंख्य घाटों से भरा है, लेकिन पंचगंगा घाट निश्चित रूप से खड़ा है। माना जाता है कि पाँच पवित्र नदियों का पौराणिक मिलन स्थल है, इस स्थान पर पाँच देवियों के चित्र हैं, जैसे गंगा, यमुना, सरस्वती, धूतपाप और किरण। बहुत से यात्री आशीर्वाद लेने के लिए यहाँ रुकते हैं और जगह के कुछ शांतिपूर्ण वातावरण को सोख लेते हैं।

8. कौस्तुति घाट

प्रसिद्ध संस्कृत विद्वान मधुसूदन सरस्वती का आश्रय स्थल और बिहार के चंपारण के राजा दिगबतिया द्वारा निर्मित अपने महल के लिए प्रसिद्ध है, यह घाट अपनी तरह का एक है। इसमें एक मंदिर परिसर भी है जिसमें देवी काली की छवियां हैं। और चैत्र की होली और 12 वीं अंधेरे-आधे जैसे अवसरों पर, यह जगह पर्यटकों का भारी संख्या में स्वागत करती है।



9. काशी विश्वनाथ मंदिर

वाराणसी में प्रसिद्ध काशी विश्वनाथ मंदिर को शामिल किए बिना स्थानों की सूची अधूरी होगी। भगवान शिव को समर्पित, यह मंदिर 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है और इसे पवित्र ग्रंथों में भी संदर्भित किया गया है। आज जो मंदिर की संरचना है, उसमें विश्वनाथ गली में स्थित छोटे मंदिरों की एक श्रृंखला है।


10. तुलसी मानस मंदिर

वाराणसी में कई दर्शनीय स्थलों के बीच तुलसी मानस मंदिर है, जहाँ तुलसीदास ने हिंदी भाषा की अवधी बोली में हिंदू महाकाव्य रामायण लिखी थी। मंदिर बिड़ला परिवार द्वारा वित्त पोषित किया गया था और 1964 में सफेद संगमरमर से बनाया गया था। रामचरितमानस के छंद और दृश्य मंदिर की दीवारों पर उकेरे गए हैं।

# वाराणसी में घूमने के कुछ और स्थान

दुर्गा मंदिर, वाराणसी, तिब्बती मंदिर, वाराणसी, नेपाली मंदिर, संकट मोचन हनुमान मंदिर, केदार घाट
भारत माता मंदिर, भारत माता मंदिर, आलमगीर मस्जिद, शिवाला घाट, मनमंदिर घाट, रामनगर किला, भारत कला भवन संग्रहालय, ज्ञान वापी वेल, चुनार किला, विश्वनाथ काली, चीनी मंदिर, इस्कॉन वाराणसी, सेंट मैरी चर्च, वाराणसी, गंगा आरती, वाराणसी, योगा, वाराणसी, वाराणसी फन सिटी, एक्वा वर्ल्ड, विन्धम झरने, लखनिया दारी झरना, राजदरी झरना, देवधारी झरना, मुक्का फॉल्स, टांडा फॉल्स, गंगा महोत्सव 2019, वाराणसी, वाराणसी में रामनगर रामलीला, सीता सम्मान स्टाल।

# वाराणसी का भोजन

अपने व्यंजनों में शामिल बिहार के व्यंजनों और शैलियों के एक निश्चित प्रभाव के साथ वाराणसी के व्यंजनों का एक अलग रंग है। क्षेत्र के लोकप्रिय व्यंजनों में दम आलू, बाटी चोखा, आलू-टिक्की, पानी पुरी, कचोरी, ताम्र चाट के साथ-साथ जलेबी, राबड़ी, और बनारसी कलाकंद जैसी मिठाइयाँ हैं। शहर का एक और आवश्यक स्वाद इसकी पान, सुपारी की एक नाजुकता है। इन के अलावा, गर्म दूध के साथ मक्खन टोस्ट बाहर की कोशिश करो, आम तौर पर बादाम स्वाद। इसके अलावा, लस्सी और बादाम शरबत जैसे स्थानीय पेय को आज़माएं। वाराणसी अपनी ठंडाई के लिए भी प्रसिद्ध है, जो इसमें मिलाए गए भांग के साथ एक दूध आधारित पेय है, जो भारत में भांग का एक रूप है। यहां पारंपरिक और स्थानीय जायकों के अलावा, कॉन्टिनेंटल और विशिष्ट भारतीय भोजन के लिए कई विकल्प मिलेंगे। जब वाराणसी में, आप स्वादिष्ट स्ट्रीट फूड से अस्सी के कई कैफे में भोजन की विविधता का पता लगा सकते हैं। शहर वास्तव में यह सब है!


1. कचोरी सब्जी
2. चेना दही वड़ा
3. मलाईयो
4. चूर मातर
5. ठंडाई और लस्सी
6. दही चटनी वाले गोल गप्पे
7. लइया चना
8. बाती चोखा
9. तमातर चाट

# वाराणसी घूमने का सबसे अच्छा समय

वाराणसी का दौरा करने का सबसे अच्छा समय सर्दियों (नवंबर - फरवरी) के बाद से तापमान कम होता है और दिन भर शांत हवा रहती है। वाराणसी में ग्रीष्मकाल उच्च और शुष्क तापमान का अनुभव करता है। गर्मियों से बचना सबसे अच्छा है क्योंकि वे गर्म शुष्क होते हैं और आउटडोर पर्यटन स्थलों का भ्रमण कठिन करते हैं। मॉनसून एक सुखद बदलाव है, जिसमें मध्यम से भारी वर्षा होती है, जबकि सर्दियों में वाराणसी की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय होता है, जो मौसम की अद्भुत परिस्थितियों के कारण काफी हद तक इसकी सुंदरता को बढ़ाता है।


1. वाराणसी का ग्रीष्मकाल - अप्रैल से जून

मार्च के मध्य से गर्मियों की शुरुआत होती है। हालांकि, अप्रैल आधिकारिक तौर पर सीजन की शुरुआत है और यह जून तक समाप्त हो जाता है। जल्दी गर्मियों में सुखदायक होगा और वहाँ से, तापमान और आर्द्रता बढ़ने लगती है। गर्मियों का चरम तापमान 45 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ जाएगा। हालांकि यह एक दुबला पर्यटन का मौसम है, गर्मियों को उन लोगों द्वारा पसंद किया जाता है, जो होटल और यात्रा में बेहतर सौदों की तलाश कर रहे हैं। इसके अलावा, आप भीड़ के बिना मंदिर का पता लगाने के लिए। गर्मियों में अनुष्ठान, धार्मिक प्रसंस्करण और त्यौहार आम हैं।

तापमान 32 डिग्री सेल्सियस और 45 डिग्री सेल्सियस के बीच होता है। वर्षा दुर्लभ होती है लेकिन गरज के साथ होती है। इस मौसम के दौरान, 'लू' नाम की गर्म शुष्क हवाएँ काफी सामान्य होती हैं।

2. वाराणसी का मानसून - जुलाई से सितंबर

गंगा नदी के लिए धन्यवाद, इस क्षेत्र में मानसून मध्यम रूप से भारी होगा। जुलाई से सितंबर तक अचानक मंदी और लगातार बारिश आम है। यदि आप वाराणसी की खोज कर रहे हैं, तो यह काफी कठिन हो जाता है, क्योंकि बारिश आपकी यात्रा में बाधा होगी। यदि वर्षा भारी होती है, तो गंगा क्रूज सहित कई गतिविधियों को रोक दिया जा सकता है। दूसरी ओर, फोटोग्राफिक यात्री बारिश के दौरान वाराणसी की प्रमुख सुंदरता का आनंद लेते हैं। बारिश सामान्य है और तापमान में काफी गिरावट होगी। हालांकि, आर्द्रता अधिक होगी।

3. वाराणसी की सर्दी - अक्टूबर से मार्च

वाराणसी के लिए सर्दियों का प्रमुख पर्यटन मौसम है। रात ठंडी है और सुबह का मौसम मनभावन है। इस प्रकार, आप बिना थकावट के क्षेत्र का पता लगाने में सक्षम होंगे। इसके अलावा, सर्दियों का मौसम कई धार्मिक त्योहारों और समारोहों को आयोजित करता है। फेस्टिव मूड में वाराणसी को कैच करना काफी दर्शनीय होगा।

# वाराणसी कैसे पहुंचे

वाराणसी ट्रेन, सड़क के साथ-साथ हवाई मार्ग से भी जुड़ा हुआ है। इसके दो प्रमुख रेलवे स्टेशन हैं, वाराणसी जंक्शन और मुगल सराय जंक्शन। मुंबई और दिल्ली के लिए दैनिक उड़ानों के साथ शहर का अपना हवाई अड्डा है। बसें भी उपलब्ध हैं।

1. फ्लाइट से वाराणसी कैसे पहुंचे

वाराणसी में एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है, और यद्यपि कई अंतरराष्ट्रीय उड़ानें सीधे वाराणसी नहीं आती हैं, लगभग सभी घरेलू एयरलाइन इस शहर से नियमित उड़ानें संचालित करती हैं। जेट एयरवेज, एयर इंडिया और स्पाइस जेट सबसे लगातार उड़ानें संचालित करते हैं।

2. सड़क मार्ग से वाराणसी कैसे पहुंचे

वाराणसी के लिए सड़क संपर्क अच्छी तरह से बनाए रखा गया है और सुविधाजनक है, और उत्तर प्रदेश की यात्रा करने वाले अधिकांश पर्यटक आमतौर पर दो या तीन पास के शहरों में क्लब करते हैं और सड़क के बीच आवागमन करते हैं। इलाहाबाद, कानपुर और गोरखपुर जैसे नजदीकी शहरों की दूरी ड्राइविंग दूरी के भीतर स्थित है। राष्ट्रीय राजमार्ग 19 मुख्य संपर्क मार्ग है।

3. ट्रेन से वाराणसी कैसे पहुंचे

वाराणसी एक प्रमुख रेलवे स्टेशन है और उत्तर भारत से गुजरने वाली लगभग सभी ट्रेनें वाराणसी जाती हैं। मुगल सराय जंक्शन एक अन्य प्रमुख स्टेशन है जो मुख्य शहर से 18 किलोमीटर दूर है और पूरे भारत के शहरों से आने वाली ट्रेनें हैं।

# वाराणसी में स्थानीय परिवहन

साइकिल रिक्शा, साथ ही ऑटो-रिक्शा, स्थानीय क्षेत्रों में यात्रा के लिए वाराणसी में उपलब्ध हैं। शहर के भीतर मिनी बसें भी उपलब्ध हैं। गंगा नदी के पर्यटन के लिए नावों का उपयोग किया जाता है।

# वाराणसी में होटल

1. ताज नदेसर पैलेस
2. रिवादास बाय आइडियल
3. बृजराम पैलेस- एक हेरिटेज होटल
4. ट्री ऑफ लाइफ रिजॉर्ट एंड स्पा, वाराणसी
5. कम्फर्ट इन बनारस
6. सूर्योदय हवेली - एक अमृतारा रिज़ॉर्ट
7. होटल ग्रेपवाइन
8. होटल उदय पैलेस
9. होटल विभावश
10. होटल बुद्ध




































#varanasi, #varanasiindia, #varanasidiaries, #varanasighats, #varanasi_ghat, #varanasiblogger, #varanasilife, #varanasifood, #varanasiblog, #varanasitravel, #varanasijob, #varanasiguide, #varanasivisit, #varanasiplaces, #varanasitemple, #varanasiairport, #varanasitrip, #varanasitourism, #varanasicity, #varanasirailwaystation, #varanasiyoga,

Comments

Popular posts from this blog

Application for Internship with AlfaTravelBlog

DBA Apply for Best A1 Cabs Franchise in India

All In One Travel Booking Apps