Gwalior in the state of Madhya Pradesh


#Gwalior,
#Tansen Sangeet Samaroh,
#Places to Visit in Gwalior,
#Food of Gwalior,
#Best time to Visit Gwalior,
#How to Reach Gwalior,
#Local transport in Gwalior,
#Hotels in Gwalior,

Gwalior, the fourth largest city in the state of Madhya Pradesh, owes its fame to the fort, situated atop a 300 feet hill, which the Mughal emperor Babur called "Moti among the fort of Hind". Gwalior is also known as the cultural center and home of the famous poet and musician Tansen and a renowned gharana or school of classical Hindustani music.


There is a legend about the origin of the name of Gwalior. It is said that Suraj Sen, the 13th-century prince of the Rajput Sikarwar clan, was cured of leprosy by sage Gwalipa. To thank the sage, the prince named a new city after him.
For centuries, Gwalior was the capital of many dynasties. In 1231 a Muslim army invaded Gwalior and the city remained under Muslim domination until the next century. In 1375, it fell to Raja Vir Singh and the Tomar dynasty.

This was the golden age of Gwalior. In 1516, the city was conquered again, this time by the Delhi Sultanate under the Lodi dynasty. The Mughals retook the city during Babur's reign and kept it until the 1730s, when the Marathas of Ranoji Scindia seized it. Gwalior remained a princely state during the British rule.
The present Maharaja, Madhav Rao, is a descendant of the Scindia dynasty.
This rich history has left Gwalior with a rich cultural and architectural heritage. The city has produced poets and musicians such as Tansen, some of which ragas are still considered among the greatest works of Indian classical music.

● Tansen Music Festival

This cultural festival is dedicated to the great Tansen, the pillar of Indian classical music. The place where this great musician is buried in Gwalior, Tansen Tomb, is the venue of the annual concert held in November - December.

Gwalior is the place that has retained the rich classical tradition of music and devotion to Tansen, known as Gwalior Gharana style with its unique Dhrupad classical form. Khayal was also refined from the Gwalior Gharana.

● Places to visit in Gwalior

1. Man Singh Palace

This huge palace is a fine Hindu architecture rising from the top of the rock. It was built by Tomar Raja Man Singh in the 15th century.
The palace has a total of 4 storeys of which 2 storeys are underground. The palace has magnificent figures embellished with beautiful paintings, glazed tiled fringes, to which this painting is credited with its nickname of the temple, the "painted palace".
The fort was annexed by the Mughals in the sixteenth century, the palace was used as a state prison.

2. Sas bahu Temple


The mother-in-law is a group of two temples popularly called the "mother-in-law's" and "the daughter-in-law's temple", although in fact the first is dedicated to Sahasrabahu, the thousand-armed god Vishnu, and the second to Shiva. King Kachhapaghat's wife worshiped Lord Vishnu but his daughter-in-law worshiped Lord Shiva, so a Shiva temple was added next to Vishnu one.

3. Teli Temple


The name of this amazing temple located inside the fort of Gwalior is "Teli", which means oil dealer arrested. It was built in the 9th century during the reign of King Mihira Bhoja of the Pratihara dynasty, it is the oldest temple in the fort.
The Teli temple boasts of an amazing 30 meter Shikhar (tower) and North Indian decorative motifs with a blend of South Indian Dravidian architecture.

4. Gurdwara Data Bandi Chorh Sahib

This Sikh temple is associated with the capture and release of Guru Hargobind Sahib at the Gwalior Fort, when he managed to obtain the release of 52 kings who had been imprisoned in the fort for years. Bandhi means "imprisoned" and thief means "release". Pilgrims from all over India come to the gurdwara to pay homage to Guru Hargobind.

5. Jain rock sculptures

A large proportion of Jain remains in Gwalior are a series of caves or rock-cut sculptures, excavated in rock on all sides, and numbering about a hundred, great and small. Most of them are the only mark for placing the idols of Tirthankaras (saints of Jainism), though there are some cells that were originally built for habitation.
According to inscriptions, between 1441 and 1474, they were excavated within a short span of about thirty-three years. A huge figure is 17 meters high,

6. Jai Vilas Palace

Jai Vilas Palace was built in 1874 by Maharaja Jayaji Rao Scindia at great expense. The Maharaja of Gwalior still lives in the palace, but 35 rooms have been converted into a museum.
The building, designed by Sir Michael Philos, is a fine example of European architecture. It is particularly famous for its great Durbar Hall, which is decorated with giltwood furniture, with a huge carpet and huge chandeliers weighing three tons.

7. Mohammad Ghaus and Tansen’s Tomb

Mohammad Gaus is one of the most notable Sufi figures in the history of India.
Born in the 16th century, he wrote several books, the most famous of which is Gulzar Abrar. He is said to have helped the Mughal Sultan Babar to seize the Gwalior Fort.
Tansen's tomb is near the tomb of Mohammad Gauss. Tansen (1506– 1589) was the most famous singer in the court of Akbar the Great and is considered one of the nine gems of the Emperor's court.
Tansen is said to have been responsible for many improvements and inventions in classical Indian music. Every year a music festival called Tansen Sangeet Samaroh is held here - a way to discover the rich heritage of classical performances of Gwalior.

8. Vivaswan, Sun Temple

The Sun Temple, a recent building, is a replica of the famous Sun Temple in Konark, Odisha. It is surrounded by a well tended garden, which makes the walk very enjoyable.

● Gwalior food

Gwalior is a culturally rich and historically rich city in Madhya Pradesh, whose name is enough to bring to mind images of palaces and temples. The city is filled with positive vibes that you will find as cheerful crowded streets. While there is no doubt that you will be looking for attractions in the city, you need to lift the lid and uncover the exotic dishes that keep it in store. From love-filled shortbread to steaming hot jalebis, there is a lot to savor and savor. Eating street food in Gwalior will surely wake up your spirits and make your holiday the most amazing.
Any holiday is incomplete without a taste of the food of the city you are traveling to and the fun doubles when it is street food! The experience of munching delicious street foods is simply heavenly! Here are some street food whose smell is enough to get your attention while staying on the streets.

1. Kachori
You must know how delicious kachori is! And Gwalior is also in this race when finger licking serves kachori. If you get to eat delicious kachoris in the morning, then just believe that your day is going to be amazing!

2. Laddu

When you are making hot kachoris, you are sent to a nearby place for the scent of boondi.

3. Poha
Poha is another delicious snack when it comes to street food in Gwalior.

4. Panipuri 
You must have heard about Panipuri. Some people call it Golgappa, for others it is even more. But you may not have heard of amb long pani poori. While you are not even aware that something like this exists, people have been enjoying it in Gwalior for a long time. And we dare you if you can spare these soul-enthusiastic golgappas whose bite lures many people's hearts!

5. Bitter gourd
Don't get me wrong by name! No, it is not made from bitter gourd. It is a delicious version of papiri chaat that almost everyone likes. Instead of papyri, you will find bitter gourd on a plate which is actually a sheet of deep-fried flour. The taste is heavenly and will fill you up to the brim. Not only does the bitter gourd add more flavor to the chaat, but it also makes it very beautiful (food really matters, aren't they?). The dish is also served with peas so that your flavors will tickle even more.

6. Petha Guillory

For all those with a sweet tooth, there are many sweets in Gwalior that are waiting for you to gulp them and sweeten your taste buds. Gillory is found in different places at different places. For example, in Lucknow there is Malai Guillory. Here in Gwalior you will find Petha Gillori, a type of Petha which has the taste of paan, mint, betel nut and gulkand. The taste is simply mind-blowing.

● Best time to visit Gwalior

October to March is the best time to visit Gwalior. However, those who do not get a little rain can also go between July and September. The four-day Tansen Music Festival (November / December) is a good time to visit Gwalior if you want to enjoy the performance of Indian classical music.

● How to reach Gwalior

Gwalior has its own airport and railway station which connects it to all the major cities of the country. You can also reach Gwalior by road via National Highways 3, 75 and 92.

1. How to reach Gwalior by flight
Gwalior Airport is one of the four major Airports in the region, which is also the Indian Air Force base. All major Airlines have flights to Gwalior from different parts of India.
Nearest airport: Agra Airport (AGR) - 107 km from Gwalior.

2. How to reach Gwalior by road

Gwalior is situated on the north-south corridor of the National Highway. NH3, NH75 and NH92 connect Gwalior with major cities of the country. You can take a taxi from New Delhi or travel in buses that travel from nearby cities to Gwalior.

3. How to reach Gwalior by train

Gwalior is connected to all major cities across India by regular trains. You can easily find autorickshaws and taxis outside the railway station to travel to any part of the city.

● Local transport in Gwalior

Gwalior has a highly efficient public transport system and travel within the city can be done easily by buses and auto-rickshaws. Tourists can also board cabs to cover all the sightseeing comfortably.


●Hotels in Gwalior

1.Radisson Gwalior
2.Taj Usha Kiran Palace
3.Clarks Inn Suites
4.Ramaya Hotel
5.Neemrana's - Deo Bagh
6.Hotel Horizon Plaza
7.Hotel Grace, Gwalior
8.Hotel MK Vivanta
9.Hotel Solitaire Inn
10.The Ved Mantra






Barkha Negi Nagee 
Co-Founder
Alfa Tours And Travels 
G3-Nagee Palace, Sai Baba Nagar, Navghar Road, 
Bhayandar [East], Thane 401105 India
+91 77188 09030
Barkha@alfatravelblog.com
www.AlfaTravelBlog.com
https://www.facebook.com/barkha.nagee
https://twitter.com/NageeNegi?s=08
https://www.linkedin.com/in/barkha-nagee-484a01197
https://www.instagram.com/barkhaneginagee/

https://www.portrait-business-woman.com/2019/11/barkha-negi-nagee.html






























#ग्वालियर
#तानसेन संगीत समरोह
#ग्वालियर में घूमने की जगहें
#ग्वालियर का खाना
#ग्वालियर घूमने का सबसे अच्छा समय
#कैसे पहुंचे ग्वालियर
#ग्वालियर में स्थानीय परिवहन
#ग्वालियर में होटल

ग्वालियर, मध्य प्रदेश राज्य का चौथा सबसे बड़ा शहर, किले के लिए अपनी प्रसिद्धि के कारण, एक 300 फीट पहाड़ी के ऊपर स्थित है, जिसे मुगल सम्राट बाबर ने "हिंद के किले के बीच मोती" कहा था। ग्वालियर को प्रसिद्ध कवि और संगीतकार तानसेन और एक प्रसिद्ध घराने या शास्त्रीय हिंदुस्तानी संगीत के स्कूल के सांस्कृतिक केंद्र और घर के रूप में भी जाना जाता है।
ग्वालियर के नाम की उत्पत्ति के बारे में एक किंवदंती है। ऐसा कहा जाता है कि सूरज सेन, राजपूत सिकरवार कबीले के 13 वीं शताब्दी के राजकुमार, ऋषि ग्वालिपा द्वारा कुष्ठ रोग से ठीक हो गए थे। ऋषि को धन्यवाद देने के लिए, राजकुमार ने उनके नाम पर एक नया शहर रखा।
सदियों से, ग्वालियर कई राजवंशों की राजधानी था। 1231 में एक मुस्लिम सेना ने ग्वालियर पर आक्रमण किया और शहर अगली शताब्दी तक मुस्लिम प्रभुत्व के अधीन रहा। 1375 में, यह राजा वीर सिंह और तोमर वंश तक गिर गया। यह ग्वालियर का स्वर्ण युग था। 1516 में, शहर को फिर से जीत लिया गया, इस बार लोदी वंश के तहत दिल्ली सल्तनत ने। मुगलों ने बाबर के शासनकाल में शहर को वापस ले लिया और 1730 के दशक तक इसे रखा, जब रानोजी सिंधिया के मराठों ने इसे जब्त कर लिया। ब्रिटिश शासन के दौरान ग्वालियर एक रियासत रहा।
वर्तमान महाराजा, माधव राव, सिंधिया राजवंश के वंशज हैं।
इस समृद्ध इतिहास ने ग्वालियर को एक समृद्ध सांस्कृतिक और स्थापत्य विरासत के साथ छोड़ दिया है। शहर ने तानसेन जैसे कवियों और संगीतकारों का उत्पादन किया है, जिनमें से कुछ रागों को अभी भी भारतीय शास्त्रीय संगीत के महानतम कार्यों में माना जाता है।

● तानसेन संगीत समरोह

यह सांस्कृतिक उत्सव भारतीय शास्त्रीय संगीत के स्तंभ, महान तानसेन को समर्पित है। ग्वालियर में जिस स्थान पर यह महान संगीतज्ञ दफन है, तानसेन मकबरा, नवंबर - दिसंबर में सालाना आयोजित होने वाले संगीत समारोह का स्थान है।

ग्वालियर वह स्थान है, जिसने संगीत की समृद्ध शास्त्रीय परंपरा और तानसेन की भक्ति को बरकरार रखा है, जिसे अपने अनूठे ध्रुपद शास्त्रीय रूप के साथ ग्वालियर घराना शैली के रूप में जाना जाता है। खयाल को ग्वालियर घराने से भी परिष्कृत किया गया था।

● ग्वालियर में घूमने की जगहें


1. मान सिंह पैलेस

यह विशाल महल चट्टान के ऊपर से उठता हुआ एक बेहतरीन हिंदू वास्तुकला है। इसे 15 वीं शताब्दी में तोमर राजा मान सिंह ने बनवाया था।
महल के कुल 4 मंजिले हैं जिनमें से 2 मंजिला भूमिगत हैं। महल में सुंदर चित्रों, चकाचौंध टाइलों की झालरों से सुशोभित शानदार आकृतियाँ हैं, जिन पर यह चित्र मंदिर, "चित्रित महल" के अपने उपनाम का श्रेय दिया जाता है।
सोलहवीं शताब्दी में किले को मुगलों द्वारा कब्जा कर लिया गया था, महल को राज्य की जेल के रूप में इस्तेमाल किया गया था

2. सास बहू मंदिर

सास-बहू दो मंदिरों का एक समूह है जिसे लोकप्रिय रूप से "सास का" और "बहू का मंदिर" कहा जाता है, हालांकि वास्तव में पहला सहस्रबाहु, हजार-सशस्त्र भगवान विष्णु को समर्पित है, और दूसरा शिव। राजा कच्छपघाट की पत्नी ने भगवान विष्णु की पूजा की लेकिन उनकी पुत्रवधू ने भगवान शिव की पूजा की, इसलिए विष्णु एक के बगल में एक शिव मंदिर जोड़ा गया।

3. तेली का मंदिर


ग्वालियर के किले के अंदर स्थित इस आश्चर्यजनक मंदिर का नाम "तेली" है, जिसका अर्थ है कि तेल का सौदा करने वाला गिरफ्तार। यह 9 वीं शताब्दी में प्रतिहार वंश के राजा मिहिरा भोज के शासनकाल के दौरान बनाया गया था, यह किले का सबसे पुराना मंदिर है।
तेली का मंदिर एक अद्भुत 30 मीटर शिखर (टॉवर) और दक्षिण भारतीय द्रविड़ वास्तुकला के मिश्रण के साथ उत्तर भारतीय सजावटी रूपांकनों का दावा करता है।

4. गुरुद्वारा दाता बंदी चोर साहिब

यह सिख मंदिर ग्वालियर किले में गुरु हरगोबिंद साहिब की कैद और उनकी रिहाई के साथ जुड़ा हुआ है, जब वह 52 राजाओं की रिहाई प्राप्त करने में कामयाब रहे, जो वर्षों से किले में कैद थे। बंदी का अर्थ है "कैद" और चोर का अर्थ है "रिहाई"। गुरु हरगोविंद को श्रद्धांजलि देने के लिए तीर्थयात्री पूरे भारत से गुरुद्वारा आते हैं।


5. जैन रॉक की मूर्तियां

ग्वालियर में जैन अवशेषों का एक बड़ा हिस्सा गुफाओं या रॉक-कट की मूर्तियों की एक श्रृंखला है, जो सभी तरफ चट्टान में खुदाई की गई है, और लगभग सौ, महान और छोटी संख्या में हैं। उनमें से ज्यादातर तीर्थंकरों (जैन धर्म के संतों) की मूर्तियों को रखने के लिए एक मात्र निशानी हैं, हालांकि कुछ ऐसी कोशिकाएं हैं जो मूल रूप से निवास के लिए बनाई गई थीं।
शिलालेखों के अनुसार, 1441 और 1474 के बीच, वे लगभग तैंतीस वर्षों की छोटी अवधि के भीतर खोद दिए गए थे। एक विशाल आंकड़ा 17 मीटर ऊंचा है,


6. जय विलास पैलेस

जय विलास पैलेस 1874 में महाराजा जयाजी राव सिंधिया द्वारा बड़े खर्च पर बनाया गया था। ग्वालियर के महाराजा अभी भी महल में रहते हैं, लेकिन 35 कमरों को एक संग्रहालय में बदल दिया गया है।
सर माइकल फिलोस द्वारा डिजाइन की गई इमारत, यूरोपीय वास्तुकला का बेहतरीन नमूना है। यह अपने महान दरबार हॉल के लिए विशेष रूप से प्रसिद्ध है, जिसे गिल्टवुड फर्नीचर से सजाया गया है, जिसमें एक विशाल कालीन और विशाल झूमर हैं, जिनका वजन तीन टन है।

7. मोहम्मद गौस और तानसेन का मकबरा

मोहम्मद गौस भारत के इतिहास के सबसे उल्लेखनीय सूफी आंकड़ों में से एक है।
16 वीं शताब्दी में जन्मे, उन्होंने कई किताबें लिखीं, जिनमें से सबसे प्रसिद्ध गुलज़ार अबरार है। कहा जाता है कि उन्होंने ग्वालियर किले को जब्त करने के लिए मुगल सुल्तान बाबर की मदद की।
मोहम्मद गौस की कब्र के पास ही तानसेन का मकबरा है। तानसेन (1506- 1589) अकबर महान के दरबार में सबसे प्रसिद्ध गायक थे और उन्हें सम्राट के दरबार के नौ रत्नों में से एक माना जाता है।
कहा जाता है कि शास्त्रीय भारतीय संगीत में कई सुधारों और आविष्कारों के लिए तानसेन जिम्मेदार थे। हर साल तानसेन संगीत समरोह नामक एक संगीत समारोह यहां आयोजित किया जाता है - जो ग्वालियर के शास्त्रीय प्रदर्शनों की समृद्ध विरासत की खोज करने का एक तरीका है।

8. विवस्वान, सूर्य मंदिर

सूर्य मंदिर, हाल ही की एक इमारत, उड़ीसा के कोणार्क में प्रसिद्ध सूर्य मंदिर की प्रतिकृति है। यह एक अच्छी तरह से झुके हुए बगीचे से घिरा हुआ है, जो टहलने को बहुत ही सुखद बनाता है।

● ग्वालियर का भोजन

ग्वालियर मध्य प्रदेश में एक सांस्कृतिक रूप से समृद्ध और ऐतिहासिक रूप से समृद्ध शहर है, जिसका नाम महलों और मंदिरों की छवियों को दिमाग में लाने के लिए पर्याप्त है। शहर सकारात्मक वाइब्स से भरा हुआ है जो आपको हंसमुख भीड़ वाली सड़कों के रूप में मिलेगा। जबकि इसमें कोई संदेह नहीं है कि आप शहर में आकर्षण तलाश रहे होंगे, आपको ढक्कन को ऊपर उठाने और विदेशी व्यंजनों को उजागर करने की आवश्यकता है जो इसे स्टोर में रखते हैं। प्यार भरी कचौड़ी से लेकर स्टीमिंग हॉट जलेबियों तक, स्वाद और दीवाना करने के लिए बहुत कुछ है। ग्वालियर में स्ट्रीट फूड खाने से निश्चित रूप से आपकी आत्माएं जाग उठेंगी और आपकी छुट्टी को सबसे अद्भुत बना दिया जाएगा।
किसी भी छुट्टी को शहर के भोजन के स्वाद के बिना अधूरा है जिसे आप यात्रा कर रहे हैं और मजा तब दोगुना हो जाता है जब यह स्ट्रीट फूड हो! स्वादिष्ट सड़क खाद्य पदार्थों को कुतरने का अनुभव बस स्वर्गीय है! यहां कुछ स्ट्रीट फूड हैं जिनकी महक सड़कों पर रहने के दौरान आपका ध्यान आकर्षित करने के लिए पर्याप्त है।

1. कचौरी
आपको पता ही होगा कि कचौरी कितनी स्वादिष्ट होती है! और ग्वालियर भी इस दौड़ में है जब उंगली चाट कचौड़ी परोसता है। सुबह-सुबह अगर आपको स्वादिष्ट कचौड़ी खाने को मिल जाए, तो बस यकीन मानिए कि आपका दिन अद्भुत होने वाला है!

2. लड्डू
जब आप गर्म कचौड़ी बना रहे होते हैं, तो आपको बूंदी की खुशबू के लिए पास की जगह पर भेज दिया जाता है।

3. पोहा
ग्वालियर में स्ट्रीट फूड की बात आते ही पोहा एक और स्वादिष्ट स्नैक है।

4. लांबी पानि गरीब
आपने पानीपुरी के बारे में सुना होगा। कुछ लोग इसे गोलगप्पे कहते हैं, तो कुछ के लिए यह फुल्का और भी है। लेकिन आपने amb लम्बी पनी गरीब ’के बारे में नहीं सुना होगा। जबकि आपको यह भी पता नहीं है कि ऐसा कुछ मौजूद है, लोग ग्वालियर में लंबे समय से इसका आनंद ले रहे हैं। और हम आपको हिम्मत करते हैं अगर आप इन आत्मा-सरगर्म गोलगप्पों को छोड़ सकते हैं जिनके काटने से कई लोगों के दिलों में लालसा होती है!

5. करेला चाट
नाम से गलत मत समझो! नहीं, यह करेला से नहीं बना है। यह पपीरी चाट का एक स्वादिष्ट संस्करण है जो लगभग सभी को पसंद है। पपीरी के बजाय, आपको करेला एक प्लेट पर मिलेगा जो वास्तव में गहरी तली हुई आटे की चादर है। स्वाद स्वर्गीय है और आपको ब्रिम तक भर देगा। न केवल करेला चाट में अधिक स्वाद जोड़ता है, बल्कि इसे बहुत सुंदर भी बनाता है (भोजन वास्तव में मायने रखता है, वे नहीं हैं?)। पकवान को मटर के साथ भी परोसा जाता है ताकि आपके स्वादबुओं को और भी गुदगुदी हो।

6. पेठा गिलोरी
मीठे दाँत वाले सभी लोगों के लिए, ग्वालियर में बहुत सी मिठाइयाँ हैं जो आपके लिए इंतजार कर रही हैं कि आप उन्हें गुल खिलाएँ और अपनी स्वाद कलियों को मीठा करें। गिलोरी अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग तरह से पाई जाती है। उदाहरण के लिए, लखनऊ में मलाई गिलोरी है। यहां ग्वालियर में आपको पेठा गिलौरी मिलेगी जो एक प्रकार का पेठा है जिसमें पान, पुदीना सुपारी और गुलकंद का स्वाद होता है। स्वाद बस मन उड़ाने वाला है।

● ग्वालियर घूमने का सबसे अच्छा समय

अक्टूबर से मार्च का समय ग्वालियर घूमने का सबसे अच्छा समय है। हालांकि, जो लोग थोड़ी बारिश नहीं करते हैं, वे जुलाई और सितंबर के बीच भी जा सकते हैं। चार दिवसीय तानसेन संगीत समारोह (नवंबर / दिसंबर) ग्वालियर की यात्रा का एक अच्छा समय है, यदि आप भारतीय शास्त्रीय संगीत के प्रदर्शन का आनंद लेना चाहते हैं।

● ग्वालियर कैसे पहुँचे

ग्वालियर का अपना हवाई अड्डा और रेलवे स्टेशन है जो इसे देश के सभी प्रमुख शहरों से जोड़ता है। आप राष्ट्रीय राजमार्ग 3, 75 और 92 के माध्यम से सड़क मार्ग से भी ग्वालियर पहुंच सकते हैं।

1. फ्लाइट से ग्वालियर कैसे पहुंचे

ग्वालियर हवाई अड्डा इस क्षेत्र के चार प्रमुख हवाई अड्डों में से एक है, जो भारतीय वायु सेना बेस भी है। सभी प्रमुख एयरलाइनों के पास भारत के विभिन्न हिस्सों से ग्वालियर के लिए उड़ानें हैं।
निकटतम हवाई अड्डा: आगरा एयरपोर्ट (AGR) - ग्वालियर से 107 कि.मी.

2. सड़क मार्ग से ग्वालियर कैसे पहुँचें

ग्वालियर राष्ट्रीय राजमार्ग के उत्तर-दक्षिण गलियारे पर स्थित है। NH3, NH75 और NH92 ग्वालियर को देश के प्रमुख शहरों से जोड़ते हैं। आप नई दिल्ली से टैक्सी ले सकते हैं या बसों में यात्रा कर सकते हैं जो पास के शहरों से ग्वालियर तक जाती हैं।

3. ट्रेन से ग्वालियर कैसे पहुँचे

नियमित ट्रेनों द्वारा ग्वालियर पूरे भारत के सभी प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है। आप शहर के किसी भी हिस्से की यात्रा करने के लिए रेलवे स्टेशन के बाहर ऑटोरिक्शा और टैक्सी आसानी से पा सकते हैं।

● ग्वालियर में स्थानीय परिवहन
ग्वालियर में एक अत्यधिक कुशल सार्वजनिक परिवहन प्रणाली है और शहर के भीतर यात्रा बसों और ऑटो-रिक्शा द्वारा आसानी से की जा सकती है। पर्यटक सभी दर्शनीय स्थलों को एक साथ आराम से ढकने के लिए कैब भी चला सकते हैं।

● ग्वालियर में होटल

1.राडिसन ग्वालियर
2.तेज उषा किरण पैलेस
3. क्लार्क इन सूट
4.रामया होटल
5.निमराना का - देव बाग
6.होटल होरिजन प्लाजा
7.होटल ग्रेस, ग्वालियर
8.होटल एमके विवांता
9.होटल सॉलिटेयर इन
10. वेद मंत्र



#gwalior
#gwaliordiaries
#gwaliorfort
#gwaliorcityvibes
#gwaliorcity
#gwaliorfood
#gwalior_fort
#gwaliormpindia
#gwaliortourism
#gwaliortrip
#gwaliortravel
#gwaliortour
#gwaliorplace
#gwaliorplaces
#gwaliortrain
#gwaliorgharana
#gwaliorfestival
#gwaliorwale

Comments

Popular posts from this blog

Application for Internship with AlfaTravelBlog

DBA Apply for Best A1 Cabs Franchise in India

All In One Travel Booking Apps