National Parks in Madhya Pradesh

National Parks in Madhya Pradesh
Do you have a love for Tigers? 
If yes, then which can be a better place to have a glance at them other than India. 
With around 3000 tigers, India has become one of the safest and enormous habitat for them in the world. India is now home to about 75% of the world's tiger population. Something to be proud of isn’t it. 
Among all the states, Madhya Pradesh has recorded the maximum number of tigers which is more than 500.
Madhya Pradesh is also called the “Tiger State” as it the home for around 20% of India’s tiger population. Magnificent Madhya Pradesh is the heartland of India, blessed with nature and wildlife. If you are interested in having an extraordinary experience, then exploring the best of jungles in MP is a treat for you. 
Madhya Pradesh has 9 National Parks. Among them, the most famous are the Bandhavgarh, Panna, and Pench. Let us know about them in detail.

1.      Bandhavgarh National Park 

Bandhavgarh National park is far from civilization, located in the Umaria district of MP. It covers the area of 694 Kms Sq. It was once the hunting ground for the Royals.
Bandhavgarh has a story of its own. Do you know that this was the place, where the first white tiger was spotted by Maharaja of Rewa in 1951? He was captured, domesticated and was named “Mohan”. 
Bandhavgarh has the highest density of tigers in India. You can easily spot a tiger in this place. It has 37 species of mammals, 250 species of birds and 80 species of butterflies.

If you love wildlife photography, this is the best place for you to visit. On the tour in the dense forest, you can spot Tigers, Leopards, Deers, Nilgai, Striped Hyena, Chausingha, Chinkara, Langurs and many more wild animals.

Best time to visit: Bandhavgarh is open for visitors from 15th October till 30th June. It is advisable to visit this place in winters from October to March when the weather is pleasant. During this time, the temperature remains between 12 – 20 degrees. At night, it becomes cold, so don’t forget to bring warm clothes.

How to reach: Jabalpur City is the closest city to Bandhavgarh. If you wish to come here, Jabalpur Airport is the best option. If you are coming from Indian Railways, you can hop off at Katni railway junction (100km), Umaria (40 km) or Jabalpur (180 km) away from Bandhavgarh National Park.

2.      Panna National Park

It is one of the most enthralling National Parks, located in Chhatarpur district of MP. It has an area of 542.7 kms sq. It has been recognized as the best maintained national park in 2007 from the Ministry of Tourism of India.

You can capture the breathtaking glimpses of big cats in the mystic landscape of Panna National Park through boat safari or an elephant safari.

River Ken flows through the park, making it more attractive and enduring. If you want to have a gripping experience and make your tour memorable, take a boat ride in the Ken river. The boat safari is the best way to spot animals quenching their thirst and for birdwatching as well.
It is a scenic landscape with the best of flora and fauna. You can see many Teak trees in the park because of the hot tropical climate. Some of the wild animals which can be spotted are Leopards, Hyena, Wolf, Sloth Bear, Chital, Chowsingha, Chinkara, Sambar, Ghariyal, Vulture, four-horned Antelope and of course Tigers.

While visiting this park, Renah waterfall, and Ken Ghariyal Sanctuary is something not to be missed. Ghariyal is only found in Indian Subcontinent and can be spotted at this Sanctuary.

This park is also famous for birds. It has more than 200 species of birds, which include Honey Buzzard, Blossom-Headed Parakeet, Bar-Headed Goose, Indian Vulture and many more. If you are a bird watcher, this place is a paradise for you.

Best time to visit: November to January is the best time to visit this place, as many migrating birds gather here. The days are pleasant and the nights are cold.

How to Reach: The nearest airport is in Khajuraho (26km) from National Park. The nearest railway station to the park is Jhansi. From Khajuraho, you can hop on a direct bus to the national park.

3.      Pench National Park

Pench National Park is located in Seoni and Chhindwara districts of Madhya Pradesh. It covers the area of 299 Kms sq. Its name has been derived from the Pench River which flows through the park, dividing it into two halves. It is an enduring place for nature and wildlife lovers.

Do you remember the classic novel “The Jungle Book” written by Rudyard Kipling? How can anyone forget the adventures of Mowgli with Bagheera, Baloo, and Sher Khan? But do you know what inspired him to write a jungle book? It was the enthralling and captivating jungles of Pench National Park.

You can enjoy the beautiful landscape and take a glimpse of Bengal Tigers and other wild animals like Indian Bison, Sambar, Chital, Wild Boar, Indian Leopard, Porcupine, Guar any many more from Jeep Safari.

Have you taken the photographs of Migratory birds like Magpie Robin, Red-Vented Bulbul, Northern Pintail, and Crow Pheasant? If not, then this place is waiting for you to explore, where you can find more than 210 species of birds.

The forest is mostly covered by trees like Teak, Saja, Haldu, Jamun, Palash, etc. The most important tree found here is Mahua. Its flowers are not only consumed by birds or mammals but also by tribals for making beer.

Best time to Visit: The Park is open from 16th October till the end of June. The best time to come here is from November to March. The maximum temperature goes to 30-32 degrees and a minimum of 13-11 degrees. The weather being pleasant on these days will make your trip more memorable.

How to reach: National Park can be reached from Dumna airport, Jabalpur (around 200km away from the park) and Dr. Babasaheb Ambedkar International Airport, Nagpur (around 100 km away from the park). You can also reach here on the train. The nearest railway station is Seoni.

Madhya Pradesh is one of the most fascinating wildlife destinations in India. It is a kaleidoscope of wild animals, beautiful landscapes, chirping birds, waterfalls, fluttering butterflies and much more. A trip to the wilderness will surely be a life-changing experience. Visit this place to experience an adrenaline rush in the dense jungles of MP. Thirsty for adventures? This place is for you.

So what are you waiting for?  Plan a jungle tour in Madhya Pradesh and experience the most amazing jungles and discover nature at its best.

Have a Memorable Trip to this Paradise!

Nimisha Jaiswal 
MBA from Lucknow University 
MBA California State University, Chico, USA.


क्या आपको बाघों से प्यार है?

यदि हाँ, तो भारत के अलावा उन पर नज़र रखने के लिए एक बेहतर जगह कौन सी हो सकती है।
 लगभग 3000 बाघों के साथ, भारत दुनिया में उनके लिए सबसे सुरक्षित और विशाल निवास स्थान बन गया है। भारत अब दुनिया की बाघों की आबादी का लगभग 75% हिस्सा है। इस पर गर्व करने के लिए कुछ

सभी राज्यों में, मध्य प्रदेश ने बाघों की अधिकतम संख्या दर्ज की है जो 500 से अधिक है। मध्य प्रदेश को "टाइगर राज्य" भी कहा जाता है क्योंकि यह भारत की लगभग 20% बाघ आबादी का घर है। शानदार मध्य प्रदेश भारत का हृदय स्थल है, जो प्रकृति और वन्य जीवन से समृद्ध है। यदि आप एक असाधारण अनुभव रखने में रुचि रखते हैं, तो एमपी में जंगलों की सबसे अच्छी खोज करना आपके लिए एक इलाज है।

मध्य प्रदेश में 9 राष्ट्रीय उद्यान हैं। उनमें से, सबसे प्रसिद्ध बांधवगढ़, पन्ना और पेंच हैं। आइये उनके बारे में विस्तार से जानते हैं।

 1. बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान
बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान सभ्यता से बहुत दूर है, जो मप्र के उमरिया जिले में स्थित है। यह 694 किलोमीटर वर्ग के क्षेत्र को कवर करता है। यह एक बार रॉयल्स के लिए शिकार का मैदान था।
बांधवगढ़ की अपनी एक कहानी है। क्या आप जानते हैं कि यह वही स्थान था, जहाँ 1951 में रीवा के महाराजा द्वारा पहला सफेद बाघ देखा गया था? उसे कैद कर लिया गया, उसे पालतू बनाया गया और उसका नाम "मोहन" रखा गया।
बांधवगढ़ में भारत में बाघों का घनत्व सबसे अधिक है। आप इस जगह पर आसानी से बाघ को देख सकते हैं। इसमें स्तनधारियों की 37 प्रजातियाँ, पक्षियों की 250 प्रजातियाँ और तितलियों की 80 प्रजातियाँ हैं।
यदि आप वन्यजीव फोटोग्राफी से प्यार करते हैं, तो आपके लिए यह सबसे अच्छी जगह है। घने जंगल में दौरे पर, आप बाघ, तेंदुए, हिरण, नीलगाय, धारीदार हाइना, चौसिंगा, चिंकारा, लैंगर और कई जंगली जानवरों को देख सकते हैं।
घूमने का सबसे अच्छा समय: बांधवगढ़ 15 अक्टूबर से 30 जून तक पर्यटकों के लिए खुला है। मौसम सुहावना होने पर अक्टूबर से मार्च तक सर्दियों में इस जगह पर जाने की सलाह दी जाती है। इस समय के दौरान, तापमान 12 - 20 डिग्री के बीच रहता है। रात में, यह ठंडा हो जाता है, इसलिए गर्म कपड़े लाने के लिए मत भूलना।
कैसे पहुंचे: जबलपुर शहर बांधवगढ़ के लिए निकटतम शहर है। अगर आप यहां आना चाहते हैं, तो जबलपुर एयरपोर्ट सबसे अच्छा विकल्प है। यदि आप भारतीय रेलवे से आ रहे हैं, तो आप बांधवगढ़ नेशनल पार्क से कटनी रेलवे जंक्शन (100 किमी), उमरिया (40 किमी) या जबलपुर (180 किमी) पर जा सकते हैं।
2. पन्ना राष्ट्रीय उद्यान
यह मप्र के छतरपुर जिले में स्थित सबसे आकर्षक राष्ट्रीय उद्यानों में से एक है। इसका क्षेत्रफल 542.7 किलोमीटर वर्ग है। इसे भारत के पर्यटन मंत्रालय से 2007 में सबसे अच्छा बनाए रखा राष्ट्रीय उद्यान के रूप में मान्यता दी गई है।
आप पन्ना नेशनल पार्क के रहस्यपूर्ण परिदृश्य में बड़ी बिल्लियों की लुभावनी झलक को नाव सफारी या हाथी सफारी के माध्यम से पकड़ सकते हैं।
नदी केन पार्क के माध्यम से बहती है, जिससे यह अधिक आकर्षक और स्थायी हो जाता है। यदि आप एक मनोरंजक अनुभव करना चाहते हैं और अपने दौरे को यादगार बनाना चाहते हैं, तो केन नदी में नाव की सवारी करें। नाव सफारी जानवरों को उनकी प्यास बुझाने और बर्डवॉचिंग के लिए सबसे अच्छा तरीका है।
यह वनस्पतियों और जीवों का सबसे अच्छा परिदृश्य है। आप गर्म उष्णकटिबंधीय जलवायु के कारण पार्क में कई सागौन के पेड़ देख सकते हैं। कुछ जंगली जानवर जिन्हें देखा जा सकता है, वे हैं तेंदुए, हाइना, भेड़िया, स्लॉथ बीयर, चीतल, चोवसिंघा, चिंकारा, सांभर, घड़ियाल, गिद्ध, चार सींग वाले मृग और निश्चित रूप से बाघ।
इस पार्क का दौरा करते समय, रेना झरना, और केन घड़ियाल अभयारण्य कुछ याद नहीं है। घड़ियाल केवल भारतीय उपमहाद्वीप में पाया जाता है और इस अभयारण्य में देखा जा सकता है।
यह पार्क पक्षियों के लिए भी प्रसिद्ध है। इसमें पक्षियों की 200 से अधिक प्रजातियां हैं, जिनमें हनी बज़र्ड, ब्लॉसम-हेडेड पैराकेट, बार-हेडेड गूज़, इंडियन वल्चर और कई अन्य शामिल हैं। यदि आप एक पक्षी द्रष्टा हैं, तो यह स्थान आपके लिए स्वर्ग है।
घूमने का सबसे अच्छा समय: नवंबर से जनवरी इस जगह की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय है, क्योंकि कई प्रवासी पक्षी यहां इकट्ठा होते हैं। दिन सुहावने और रातें ठंडी होती हैं।
कैसे पहुंचें: निकटतम हवाई अड्डा राष्ट्रीय उद्यान से खजुराहो (26 किमी) में है। पार्क के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन झांसी है। खजुराहो से, आप राष्ट्रीय उद्यान के लिए सीधी बस पर आशा कर सकते हैं।

3. पेंच नेशनल पार्क
पेंच नेशनल पार्क मध्य प्रदेश के सिवनी और छिंदवाड़ा जिलों में स्थित है। यह 299 किलोमीटर वर्ग के क्षेत्र को कवर करता है। इसका नाम पेंच नदी से लिया गया है जो पार्क के माध्यम से बहती है, इसे आधा हिस्सों में विभाजित करती है। यह प्रकृति और वन्यजीव प्रेमियों के लिए एक स्थायी जगह है।
क्या आपको रुडयार्ड किपलिंग द्वारा लिखित क्लासिक उपन्यास "द जंगल बुक" याद है? बघीरा, बालू और शेर खान के साथ मोगली के कारनामों को कोई कैसे भूल सकता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि जंगल बुक लिखने के लिए उन्हें क्या प्रेरणा मिली? यह पेंच नेशनल पार्क के आकर्षक और मनोरम जंगलों था।
आप खूबसूरत परिदृश्य का आनंद ले सकते हैं और जीप सफारी से बंगाल टाइगर्स और अन्य जंगली जानवरों जैसे इंडियन बाइसन, सांभर, चीतल, जंगली सूअर, भारतीय तेंदुआ, साही, ग्वार का आनंद ले सकते हैं।
क्या आपने मैगपाई रॉबिन, रेड-वेंटेड बुलबुल, उत्तरी पिंटेल और क्रो फिशर जैसे प्रवासी पक्षियों की तस्वीरें ली हैं? यदि नहीं, तो यह जगह आपको तलाशने के लिए इंतजार कर रही है, जहां आप पक्षियों की 210 से अधिक प्रजातियों को पा सकते हैं।
जंगल ज्यादातर सागौन, साजा, हल्दू, जामुन, पलाश, आदि जैसे वृक्षों से आच्छादित है। यहाँ पाया जाने वाला सबसे महत्वपूर्ण वृक्ष महुआ है। इसके फूल केवल पक्षियों या स्तनधारियों द्वारा ही नहीं बल्कि आदिवासियों द्वारा बीयर बनाने के लिए भी खाए जाते हैं।
घूमने का सबसे अच्छा समय: पार्क 16 अक्टूबर से जून के अंत तक खुला रहता है। यहां आने का सबसे अच्छा समय नवंबर से मार्च तक है। अधिकतम तापमान 30-32 डिग्री और न्यूनतम 13-11 डिग्री तक जाता है। इन दिनों खुशनुमा मौसम आपकी यात्रा को और यादगार बना देगा।

कैसे पहुंचे: राष्ट्रीय उद्यान डुमना हवाई अड्डे, जबलपुर (पार्क से लगभग 200 किमी दूर) और डॉ। बाबासाहेब अम्बेडकर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, नागपुर (पार्क से लगभग 100 किमी दूर) से पहुँचा जा सकता है। आप यहां ट्रेन से भी पहुंच सकते हैं। निकटतम रेलवे स्टेशन सिवनी है।

मध्य प्रदेश भारत के सबसे आकर्षक वन्यजीव स्थलों में से एक है। यह जंगली जानवरों, सुंदर परिदृश्य, पक्षियों के चहकने, झरने, तितलियों और बहुत अधिक फड़फड़ाहट का एक बहुरूपदर्शक है। जंगल की यात्रा निश्चित रूप से एक जीवन बदलने वाला अनुभव होगा। मप्र के घने जंगलों में एड्रेनालाईन की भीड़ का अनुभव करने के लिए इस स्थान पर जाएँ। रोमांच के लिए प्यासे? यह जगह आपके लिए है।
तो आप किसका इंतज़ार कर रहे हैं? मध्य प्रदेश में एक जंगल की यात्रा की योजना बनाएं और सबसे अद्भुत जंगलों का अनुभव करें और प्रकृति की खोज करें।
इस स्वर्ग के लिए एक यादगार यात्रा लो!

निमिषा जायसवाल
लखनऊ विश्वविद्यालय से एम.बी.ए.
एमबीए कैलिफोर्निया स्टेट यूनिवर्सिटी, चिको, यूएसए।







































#Pench National Park, Madhya Pradesh #Bandhavgarh National Park, Madhya Pradesh #Panna National Park,Madhya Pradesh #National #Park #travel #travels #travelsagency #onlinetravelsagency #tours #Jungles #Jungle #jungletour #travellife #traveler #travellifestyle #travelguide #travellers #tourandtravel #traveling #onlinebooking

Comments

Popular posts from this blog

Application for Internship with AlfaTravelBlog

DBA Apply for Best A1 Cabs Franchise in India

All In One Travel Booking Apps